🔴Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 4th Kist: With the scheme of Bhupesh government, the government will give money to the farmers.

WhatsApp Channel Join Now
Telegram Group Join Now
WhatsApp Channel Join Now



IBC24, Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana 4th Kist, Bhupesh Sarkar's scheme, the government will give …

What is the in this Video

मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमार स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा के शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में रीब सतन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक ईया है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए

है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश के 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे

के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के स्थिति ये रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम है मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम

किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके

काम भूपेश बघेल की सरकार है करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी

पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में

40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएगी देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे ग है

लेकिन अब श्रे के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनन जी आपन दोनों ही जन देखे और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी

आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वह पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो वमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज

तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर के जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हम मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 203 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक रही से

भागत र से ते मन अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कहती करके अब लाभ लेके और जी को पर्जन कर के कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसाय ब एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती

कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग से और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़

रुप हमन धान खरीद सरकार कर्ज में ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष के आगे पहुंचाना मा वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि धर 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई

27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल अगर हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मैंने 31 जनवरी धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले

जाए और 3100 दे जाए तो लगते कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं अभी 83 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान

उत्पन्न कर सके तो म लगते कि भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आधा धान खरी पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा धान ख पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जाथे नवीन जीवाई में पा साल के कार्यकाल में जिन

तरले कांग्रेस काम करे किसान ब ये र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिन तरले आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो यका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी

राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद हुई कि मैं बताता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से

उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि हमर सरकार रही जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00

जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द से और

दूसरा तरफ अभी मन कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि होकर अंतिम चार चौथा की साल के बोनस कर ू बोल ट ले लेकिन लेकिन हम हम सरकार दो साल के पुराना जो बचे हुए

बोनस दे और जो बचे हुए जो अंतिम किस्त ल दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भा लगातार अगर देवा तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हमन दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल

भी दे तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर जरत सर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपा जलाल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक बजट बजट ले व कौन जगह धान

खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मेट्रिक टन धान के

खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के पैसा सरकार व्यवस्था देना है न दे चु ने पैसा मिला के बोनस में दे दो साल के बोनस के

नाम से किसान अल एक साल के बोनस दे हो को मिले को नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सुरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का खड़े हुए न जवाब देखो ऐसे

है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात हुई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे वो समय ए मन कास पहला दूसरा तरफ अगर जान तो एमन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के

मन जैसे चार बार में द सवे हमन किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है न के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हमला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खत्म देबो अभी लिकर पेट में गुड़ी माते बता भाई जब किन देपा ठ बोलते पंचायत किसान ड़ पसा ले किन लेके न के पैसा दे किसान उ किसान उ पैसा देने वा टाइम लगा सर

सरकार पह नरेंद्र मोदी ब पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सय नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न योजना बनाए न योजना में भी योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज दे तो सरकार के बजट दिखा दे कहा 400 करोड़ व

करे ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप ल भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवत वो अलग है तो कहीं ना

कहीं र जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान उन्नति योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत जा योजना बने है अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा अगर जग बता किसान न्याय योजना के अतिम र अरे रख एसपी में जोड़ सरकार बोनस प रहेर के बोनस

बा बोनस अरे झूठ बोले पर कम ईमानदारी [प्रशंसा] दिखा बोनस कसे सरकार प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता अभन वादा घोषणा पत्र में रही व वादा के बीजेपी कहीं कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल देल किसान किसान वादा कर ह 3 दे तो आपके

दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी कावा के दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के आ खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो त 300 धान की मु पंचायत भवन देबो

अब कहा की योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकाना लगा काम कर हम मजबूरी योजना बना चार किसम पैसा दे खुल ग खुद उन्नति योजना के माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी

पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है बात रचना जी मैं आप कि भा हम उन्नति योजना बनाए ना हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला

हमे लेकिन बात ऐसे मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम किल का जोड़ के नहीं हम तोड़ किसान के साथ अन्याय करना है नय नहीं कर योजना योजना ठीक हैब दूसरा चीज धनंजय

जी दूसरा चीज मैं आप हमर जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी देख भाई कि हम डबल बना और डबल ही नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके

920 एक् जोड़ के आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है न क्टल ब किसान बे खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला अगर दे तोज चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप ल घोषणा पत्र ज घोषणा

होते ज वोट दे जाते बा जनता क कलावा हो जाते बत इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है तो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होती तो

जनता अब अगोरा कर 00 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था योजना बनाए जा बाद तो बहुत लंबा योजना तो बन ग घोषणा हो ग ना अब जो प्रावधान करे हैं बजट के व बजट आही तो ता [प्रशंसा] हो मंल डर [प्रशंसा] हमन पेट में अभ किसान केला वहीम

हम धोखा कर स ठीक धनजन जी भले ही आपन निशाना सा आपन के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवाचे है 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीद हु ह लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के

साथ ही घोषित हो ग से की किसान मन आधा आबादी जने न कह कह बीजेपी के संग बंप जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान त बना की कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आप मिली देखो हमन किसान हिसी बना

नहीं हमन किसान मन के हित हर तो फिर तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई

किसान 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पाते भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज

तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर व 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर

काम करथ कांग्रेस पार्टी किसान के सांग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की की 00 येय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों

शब्द अगर ते क डरे तो का चीज के विरोध कर था किसान भी दे किन देख कांग्रेस के आदमी किसान के बात कर कांग्रेस के आदमी किसान के बात कर भा सर मा रोमी चाहे भाजपा की उपलब्ध कांग्रेस की उपलब्ध की भी सुघर बात यह है कि एक नवा

कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है फेर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और बधाई है आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार

जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आपन के स्वागत है मैं हं आपन के संग रचना नीतेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास चे केंद्र किसान फिर का रिकॉर्ड का होते सियासत करब आज की पंचायती एक [संगीत]

पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा का की भाजपा बता थे कि येकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किकर पा साल के

कार्यकाल में जिन तरन किसान ते रने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही कि श्रेय के राजनीति कहां तक जाते एकरे ऊपर आज करब पंचायती दो पना हमर संग जड़ चुके दोनों ही पले आप इंट्रोड्यूस करा देन हमर संग मा बीजे के नेता नवीन मारकंडे जी

जुड़े हए दूसरा र हमार संग धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े हए दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुईया है राज्य सरकार ₹1 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हवे अतिका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए

है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ यह मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति मला लेके

श्रेय के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे ति सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के सति यह रिकॉर्ड बने हैं हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना

काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत

देके काम भूपेश बघेल की सरकार करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन है देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी

पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में

40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन

मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच है लेकिन अब श्रे के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे और य रिपोर्ट में साफ त देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले

लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो भी हमर

किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जा और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित और धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं

920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन ओकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब तो आप देखो कि हमार

2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब क रहे आ जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से खेती

लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत र ते ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेकर को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा

पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है र भी व्यवस्था कांग्रेस

सरकार कर से लगभग 4 हज करोड़ रुपया हम धान खरीद सरकार कर्ज ले से तो अभी जो धान खरीद लक्ष की आगे पहुचा वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे ल

की र 135 लाख मिट न धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मैंने 3 जनवरी के धान ख बंद कर

जाते हम तो मांग करें दो महीना बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के सा धोखा हो ज कांग्रेस सरकार में 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह

बारदाना रोके शिकायत आ ताकि धान खरी धान उत्पन्न कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे न ख और किसान धोखा काम हुआ पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस

काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवा दूसरा तरफ है कि जो अंतर के

राश देना है झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद हुई कि मैं बता की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से व समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के

राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि हम रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान

होई से खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द से और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस की जो सरकार रही

से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि होकर अंतिम चार चौथा कित जो ब जोड़ के बजट प्रधान का नहीं कर दो साल के बोनस न दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो

साल के पुराना जो बचे हु बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त ल दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भा लगातार

अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे तरफ है किय जो एमएसपी की राशि भी जाते

तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी दे तो ये प्रति एकड़ 9 हज से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर की जरत देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला ल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र

करोड़ बजट अनुपूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो मैं 0000 करोड़ रप यह भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के आर्डर

दी स वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल में साला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के जो चौथा कि जो पैसा रखा स भप सरकार व्यवस्था के

देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान लग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि

पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि सा जी आ नगदी ठीक है जवाब ले ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी कि ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के देह उस समय ए मन का नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब इर सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द सवे

हमन का किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ हैता जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद ले र बाद य जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो अब हमला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खत्म देबो अभी लिकर पेट में गुगी मारते बता भाई जब ठ बोल पंत किसान ड़ पसा ले किसान ले न पैसा दे किसान उ किसान उ पैसा देने वा टाइम सुनना सरकार

पह प नरेंद्र मोद बना प पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सकता ये नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न्याय योजना में भी न्याय योजना भी चौथा कि रखे किसान म बोनस के नाम से दे व ज को नहीं दे सरकार के बज दिखा दे कहा 40000 करोड़

व न जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त को हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप लोग का भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना

कहीं वक जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान उन्नति योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत जा योजना बने हैं अब वो योजना में जो अभी प्रावधान अगर बता किसान नय योजना केमस में स दे रहे [प्रशंसा] होन बोनस ू बोले कम मानदार [प्रशंसा] दिखा के बोनस कैसे

सरकार प्रदेश के किसान मला धोखा दे का भारतीय जनता पार्टी कर बता अभी कीन वादा घोषणा पत्र में रही से वो वादा के बीजेपी क ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान म किसान मर आप वादा करे 31 देके तो आपके दायित्व भी है

आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हमरो सरकार वादा के दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो ग ना

भाई त 31 धान की एक मु पंचायत भवन ल देबो अब कहा की योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बगल के सरकार क 2500 दना अड़ंगा लगा काम कर हम मजबूरी योजना बनाए चार किस पैसा दे और के

पोल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामना देता किसान मल जल्दी 3ओ ठीक है ठीक बात से रचना जी मैं आप लोग का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम

से देबो लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हमला सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से

तो अंतिम किल का जोड़ के नहींन जोड़ के जो किसान के साथ अन्याय करना है तो न्याय नहीं करना नय योजना ला योजना और दूसरा चीज है धनजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14

2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी देख कि हम डबल बना और डबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है जो धान क्विंटल

अगर बेची किसान बे र खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला के अगर दे तो 9 चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप ल की घोषणा पत्र जनत घोषणा होते सेही जत वोट दे जाते बाद जनता कहीं कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार

योजना के क्रिन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वोक कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि

तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद करर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के वो बजट आही तो खत्म जाडर कर बार्डर ज कर [प्रशंसा] तार हो मंत्रालय डर हम [प्रशंसा]

कर मतलब है मन के पेट में तो अभ किसान के एकर स मल्ला वही चीज सामने नजर आ खा जी भले ही आपन निशाना सा आपन के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवार 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी लेकिन का तर निशाना

साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा की ट के साथ घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी ज न कह कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अप आप फेर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा आप मि देखो हम

किन त बना नहीं किसान मन के त तो फ फिर कांग्रेस वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा थाना भाई किसान लाभ

3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना यहां आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज

तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हमा सरकार 20 क्विंटल कर से वही 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता

और धोखा कर काम करथ कांग्रेस पार्टी किसान के सांग खड़े हुए वाद बारबार या किसान ता में पैसा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की

31 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द तो चीज के विरोध करन पै काे कांग्रेस के आदमी किसान के बा कासमी किन के [प्रशंसा] बा बोले चरत नहीं बोरत भापा सरकार नहीं चला मा ठीक आरो प्र हाथ जोड़ के मा किसान चाहे भाजपा की उपलब्धि कांग्रेस की

उध आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई है आप मला कर स आप दोनों पहुना मन की भी

[संगीत] जोहार जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नीतेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एक [संगीत]

पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आकड़ा लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बात का ब उठत हवा काबर की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किकर पा साल के

कार्यकाल में जिन न किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही किय श्रे के राजनीति कहां तक जाते एकरे ऊपर आज कर पंचायती पना हमर संग जड़ आ चुके दोनों ही पना आप इंट्रोड्यूस करा दे हमर स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह

दूसरा हमा समा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए 36 गढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी

नहीं हुए य आंकड़ा अभी औ बाढ़ के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और

रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदने के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे

के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा की के देख सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिसी सरकार के सति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना

काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत

देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन है देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी

पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में

40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच है लेकिन

अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनन जी आपन दोनों ही जन देखे और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार केला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप

देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वह पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो व भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता

कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जा और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से दे करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला व समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब क रहे जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से

भागत अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कहती करके अब लाभ लेके और जी को पर्जन कर के कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बिसाय ब एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार

के दौरान हो गई और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से

लगभग 4 हज करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्ज ले से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुचा वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हम जैसे सरकार में रहे लक्ष की र

135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और

21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं अभ 83 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत

आ ताकि धान खरीद में धान उत्पन्न कर सके तो मो लगते कि भारती जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करें आ न और किसान धोखा काम हु पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम कर

किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत 3 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नजा देख बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राश केंद्र सरकार के देव दूसरा तरफ है की जो

अंतर के रा दे झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम

अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भा तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे भा हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी

हो सीधा भुगतान होई से खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में दी और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस की जो सरकार रही

से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशिर अंतिम चौथा कि ब जोड़ के बजट प्रधान कर दो साल के बोनस भी दे करके झूठ बोल के ट ले लेकिन लेकिन हम हम सरकार दो साल के पुराना जो बचे हु बोनस ल दे और जो बचे हुए

जो अंतिम किस्त ल दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हमन दो साल के बोनस भी देह फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते और तीसरा कि जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम

किल भी दे तोय प्रति एकड़ 9 हज से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर की जर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला ल अरे कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 100 कर पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान

खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुप यह भूपेश बगल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के

खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा सपे सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के

बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस

नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि सा जी आ 3100 नद ठीक है जवाब लेले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप

लोग बताया कि 300 हम जोड़ के देहन वो समय एमन का नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब इर सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द सवे हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है

जब जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हमला किसान उन्नति योजना के

अंतर्गत र खत्म देबो अभी लिकर पेट में गुगु मारते हो बता भाई जब भाई नहीं कहा किनसे भापा बो पंयत किसान ड़ पसा ले किसान ड़ ले न के पैसा दे किसान किसान उ पैसा देने वा टाम सर सरकारर [प्रशंसा] मोद पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सय

नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न योजना बनाए न योजना में भी न योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज सरकार के ब दिखा दे क 400 करोड़ व नवीन जी नवीन जी ये सवाल ये सवाल किसान

मन के मन में त हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप लोग का भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना कहीं व जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान

उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने हैं अब वो योजना में जो प्रावधान कर पैसा के बा जा अगर जग बता किसान न्याय योजना के अम र रे रख एसपी में म बोनस कैसे [प्रशंसा] सरकार बोनस ू बोले [प्रशंसा] कदी प्रदेश के किसान मला धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता

अभन वादा घोषणा पत्र में रही व वादा के बीजेपी कहीं कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे ल किसान म किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा किसान के सा धोखा नहीं हम हर मामला

किसान के ड़ लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देब तो पकड़ में 3 धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमरा कर काम कर ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करपे

सरका ल काम कर हम मजबूरी योजना बना कि प खुल ग खुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना दे किसान म जल्दी ठीक है बात रचना जी मैं आप कि हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना र

माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में बात एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम किल का जोड़ जो किसान के साथ अन्याय करना है कर

दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी देख हम डबल बना और डबल नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके

9 0 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 2 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो देख चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आप लगे की

घोषणा पत्र जनत घोषणा होते सेही जनत वोट दे जाते बाद जनता क छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा किट भी अभी तक अटके हुए हैं तो

वोक स्थिति कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथ 00 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाहीर बाद करर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन ग घोषणा हो ग है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के वो बजट आही तो

खत्म डर जारी हो लेकिन क तो बता डर जारी हो ग मंत्रालय जो डर हम [प्रशंसा] करे मतलब हैक मन के पेट में तो अभी [प्रशंसा] किने निशाना सा कनान के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास लाख न ज्यादा के धान खरीद लेकिन निशाना सा के आपने तो विधानसभा की

रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी न क कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन आप फर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा मि देखो हम किन बना किसान मन के र तो फिर कांग्रेस

वोट मि देख चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले जीत हार के कारण क सार हो जा कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र

मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़ ना य आप कर पाथ भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके

बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम करथ कांग्रेस पार्टी किसान के सांग खड़े हुए वाद बार याद दिला और किसान मन के खाता

में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की 00 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द क रे तो का चीज के विरोध कर

विरोध किन पै दे कांग्रे किसान भी [प्रशंसा] दे भा सरकार चला मा रदद ठीक आरोप प्र हाथ जोड़ के मा किमी चाहे भाजपा की उपल उपलब्धि आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ज्यादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास आ अपन

आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई है आप मला स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नीतेश छतीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा

ही केंद्र में आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास चे केंद्र है किसान फिर का रिकर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर

सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर कि भाजपा बता थे कि ये ओकर घोषणा पत्र के वजह हवाए दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरले उमन किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही कि ये श्रेय के राजनीति कहां तक

जाते एकरे ऊपर आज करब पंचायती दो पहुना त को हमर संग जुड़ आ चुके हैं दोनों ही पहुना ले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मार्कंडेय दूसरा र हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखता करर बाद चर्चा के शुरुआत

[संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी बाढ़ काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के

सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मला मिली फिर एक कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सर भाजपा के देख से सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हित सरकार के सति यह रिकॉर्ड

बने हा धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा

सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से

हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं

प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ले ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना

होही कि शे की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन

देखे हवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वह पहली से

भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए पहली तो व भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने

हैं व निरंतर बढ़ो जा और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान

मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मल से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक

के 24 तक के जो डबल करबो क रहे आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक रही से भागत रही

ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल

धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के साडे लाख किसान जो पंजीकृत हो से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 0000 करोड़ रप हमन धान

खरीद सरकार कर्ज लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुचा थाना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे न लग कि र 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20

क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ये हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो

लागते को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 मिलन किसान ला वो तो मिलत नहीं किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके शिकायत आ ताकि धान री धान उत्पन्न कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी

की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो टारगेट करे आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में

जिनत आप की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो यका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर रा देना है झुला झुला के चार बार में दे

अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता की जब 2018 में हमार सरकार जब ग से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर

जोड़ के दे रहे है ना तो कहीं ना कहीं हमय सोचे रहे किई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई से खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज

के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चले से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि होकर अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के

कालिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है ल देब र बावजूद

हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उला दे के बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

कि हमन दो साल के बोनस भी देह फिर य दे अंतर के राशि भी बढ़ा देवान और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते और तीसरा कि जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी दे तोय प्रति एकड़ 00 से

ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला ल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक बजट अनुपूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता

तो मैं 0000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला

बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय के चौथा कि पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था च कि देना है न दे चु तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो साल के

बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो को मिले को नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुम तु घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि

जी जवाब न देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे उस समय एमन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो एमन जब र

सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 2 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो

खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बाद ये जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हमला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत र खत्म देबो अभी लेकर पेट में गुड़ी माते हो ते बता भाई जब भाई नहीं कहा तुम पन दे भापा बो पंयत किसान

ड़ पैसा लेसान ड़ ले न पैसा दे किसान किसान पैसा देने वा टाइम लगा जैसे हमार सरकार ना सुनना हमार सरकार ना पहली मु 25 पहली नरेंद्र मोदी जी [प्रशंसा] के पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सकय नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना

बनाए न्याय योजना में भी न्याय योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज को नहीं मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के वस्था को न जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में

त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोषणा में किन उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने

योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा जा अगर जग बता किसान न्याय योजना के अतिम रे रमस में जोड़ तुम प दे रहे हो तोर के बोनस बा ग बोनस अरे झूठ बोले पर कम ईमानदारी दिखा साल प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता

अभी वादा घोषणा पत्र में रही वादा की बीजेपी क कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान किन वादा करे दे तो आपके दत्व भी है आपके धर्म भी जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा के दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन

प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था भा कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो भाई त 3100 धान की मुत पंचायत भवन कान देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी कर भूपेश बल के सरकार 25

दना अंग लगा काम करी हम मजबूरी न योजना बनाए कि पैसा दे खुल खुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना दे किसान म जल्दी ठीक है बात रना जी आप हम उन्नति योजना बनाए हमन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं

ये कहा जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र प आधार में हम बात एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से की भाई जब तो सरकार में रहे जब तोसर मिली से अंतिम कि जोड़ किसान के साथ अन्याय करना है योजना दूसरा चीज धनज जी दूसरा चीज मैं आप

हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है किई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी राशि और आज के हिसाब से एमएसपी राशि देख भाई हम डबल बना और डेबल नहीं नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के आज आप हिसाब करके

बता एक एक जो एकड़ जमीन है जो धान क्विंटल बे किसान बे र खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला केर देहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप ल घोषणा पत्र घोषणा होते सेही वोट दे जाते बा जनता ले कहीं ना

कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वो करति कहीं ना कहीं जनता परेशानी होती तो जनता

अब अगोरा करथे 00 की आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाहीर बाद करर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के बजट आही तो खत्म जा बात ऐसे है नता डर जारी

मंल जो डर हम [प्रशंसा] करे मलब है मन के पेट में तो अभ किसान के स मला वही चीज है सामने नजर आ धोखा नहीं कर स न जी भले आप निशाना सा आपन कहना है आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास एक न लाख टन ज्यादा के

धान खरीद लेकिन का त निशाना साथ के आपने देख तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग रही से की किसान मन अ आधा आबादी जने न कह न कहू बीजेपी के संग बंपर जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला

फेर किसान ते बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आपला मिल देखो हमन किता तैसी बना नहींन किसान मन के तैसी हर तो फिर कांग तो फिर कांग्रेस ला का ब वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के

किसान बन के मिले ह और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम हम तोहा किसान 3 न कर तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आप नरेंद्र मोदी जी किसान आमनी प य आप कर पा भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के

धान कीमत 3100 खरीदी होथ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम माथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान

देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए वादा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डाले मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ

य सबदम की 00 येय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द लगर क डरे तो का चीज के विरोध करा था [प्रशंसा] बा सर आरोप प्र हाथ जोड़ मामी भापा चाहे कांग्रेस की उपलब्धि आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक

नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है फेर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई है आपला स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच में आप मन

के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास चे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर छतीसगढ़ में न खरीदी के आंकड़ा 110 लाख

टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा का की भाजपा बता थे कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते रने एक से

ये बंपर खरीदी हु है अब देखना ही कि श्रे की राजनीति कहां तक जाते एकपर आज पंचायती पना हम जड़ चुके दोनों ही प ोड हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े हए दोनों जन के जोहार है

पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ी काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है

राज्य सरकार ₹1 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार है 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के

घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के रे सेथ सरकार के मंत्री

दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती ये रिकॉर्ड बने हा धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न

पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश

बगल सरकार ले देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे िति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित

तौर से कहूंगी कि पा साल से हमारी सरकार सकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के

जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख ने ज्यादा

धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्ति मान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही

जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट मैं ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता

पार्टी के जो सरकार है ओकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज

तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर और दूसरा तरफ तो समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम सेर जो एमएसपी और एकर अंतर

के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक र

जदा बेहतर ंग से अच्छा ंग से ला लेन कर कोशिश कर ठीक धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसा एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीद

जाही और प्रदेश के साढ़े लाख किसान जो पंजीकृत हो से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद तत्काल किसान भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार करदर से लगभग 0000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा में ले रही से तो

अभी जो धान खरीद के लक्ष की ओ आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लक्ष कि ध 135 लाख मिट न धान के खरीदी हुई 27 लाख

किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल की हम बात करथ तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करही लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और

3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के सान धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 2800 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरीद में धान

उत्पन्न कर सके तो म लगते कि भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जाथे नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिनत

कांग्रेस काम कर किसान बय ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र मा जत आप 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के

देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवती अभी ए मनहा ला जो अंतिम किस्त तक राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के

सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हमन यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही कि जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़

के दे हैं और ओकर आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेकर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में यह जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में दी से और

दूसरा तरफ अी ए मन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के कालिए बजट प्रधान का नहीं कर दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के

ट ले रही लेकिन लेकिन हमन हम सरकार बात की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है ल देब र बावजूद हम कहीं ना कहीं हमन लगभग 0 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है

उ दे के बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे हैं फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ

है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जा तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम कि स्ल भी दे तोय प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर देखो ऐसे रचना जी बोलते सत कपाला ल ल

अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो 0000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से

1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द स वो हिसाब से 135 लाख मेट्रिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के

चौथा किस्त के जो पैसा रखा ार स भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा किस्त देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले है कोनो

नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सूरत बता तु मला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घूम खड़े हुए क विश् सा जी आ 3 नदी द ठीक है जवाब ले ले नवीन जी देखो ऐसे है

हम रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई तो मैं आप लोग बताए हो कि 300 हम जोड़ के दे वो समय मन कास पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के

मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद ले र बाद य जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खतम दे अभी र पेट में गु माते बता भापा बोल पयत किसान ड़ पसा ले किन ले न पैसा दे किसान किन पै देने सर सरकार रद्र [प्रशंसा]

मद पैसे मिल सकते किसान सा नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जीगा तब हम न्याय योजना बनाए न योजना में भी नना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे ज सरकार के ब दिखा देहा 400 करोड़ जीय सवाल ये सवाल किसान मन के मन में हवाई

की के वादा रही वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी आप एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष उ योजना जो बनाए अत में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो

जा अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे रख रहे एमएसपी में जोड़ के मना कर जोड़ बोनस बाब नस कैसे बा अगर तु सरकार पैसा तो बोनस कैसे बा तो बोनस क के जब तुम पै दे रहे हो तो दर के बोनस कहां से बाच

गए कहां बा दर बोनस अरे झूठ बोले पर कम से मादारी दिखा तो पै बोनस जोड़ के दे के बोनस कैसे बाया साल के लेकिन हो पै दे ठीक है प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता अभी वादा घोषणा पत्र रही वादा बीजेपी क क

दबाव प्रदेश में बिल्कुल देल किसान किसान आप वादा करे दे तो आपके दत्व भी है आपके धर्म भीरे आपके जिम्मेदारी भी हरे हम सरकार वादा दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि

हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो ग ना भाई त 31 धान की एक मुत पंचायत भवन का न देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल

के सरकार क 25 ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी आयोजना बनाए चार किसम पैसा देन और के पोल खुल गए जब खुद खा के उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामनाए देता हू किसान मल जल्दी 3ओ ठीक है ठीक है देख बात

ऐ रचना जी मैं आप लोग का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए ना हमन अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से देबो लेकिन मैं ये कहा थ कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े र आधार में हमला सरकार में ला हम जिम्मेदार

तोन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम किल का जोड़ नहीं जो किसान के साथ अन्याय करना है कर न्याय योजना ला योजना दूसरा चीज धनंजय जी दूसरा चीज मैं

आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम डबल बना और डेबल नहीं नहीं उ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके

900 2 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 2 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला अगर दे तोज चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस

सरकार के हुई लेकिन आप ल की घोषणा पत्र जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते उर बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे

वो बोनस के राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर थे 300 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही र बाद

करर ई तो बहुत लंबा हो योजना तो बन ग घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के वो बजट आही तो खत्म जा आर्डर जारी कर [प्रशंसा] तार हो मंल जो डर हम [प्रशंसा] कर मतलब है मन के पेट में तो अभ

किसान के स मला वही चीज सामने नर आ धोखा नहीं कर सका नज जी भले ही आपन निशाना सा आपन कहना है आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि हैन इतिहास एक न लाख टन ज्यादा के धान खरीद हु लेकिन का त निशाना साथ के आपने देख यह तो विधानसभा के

रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग से की किसान मन आधा आबादी जि न कह कह बीजेपी के संग बप जीत अब निशाना साथ के आपन अपन आप फेर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा मि देखो हम बना नहीं किसान मन र तो फ का

फिर कांग्रेस वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हार के अंतर कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले जीत हार के कारण क सार हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा

किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे किसान की आमनी पड़ ना यहां आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी

करके बताओ भाई समझ में आते है आप 21 क्विंटल धान खरीद करके आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर से वही 31 दाम का नहीं लिखो कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार

बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द रे तो चीज के विरोध [प्रशंसा] किन भा सर ठीक आरोप प्रमी की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात

यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए 110 लाख टन ज्यादा की खरीदी अपना आप इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई आप आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आप मन

के स्वागत है मैं हूं आप मन के संघ रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर छतीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110

लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा का की भाजपा बताते कि येकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कीर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते हीने एक से

ये बंपर खरीदी हु है अब देखना ही किय श्रे के राजनीति कहां तक जाते एक ऊपर आज पंचायती पना हम जड़ चुके दोनों ही प आप इंट्रोड्यूस करा दे हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमार संग धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन

के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अका खरीदी कभी नहीं हुए ये आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुईया

है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के

घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो च मौजूदा सरकार भाजपा के देख से सरकार के

मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न

पूछेंगे और आप कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश

बगल सरकार ल देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल के सरकार ह करे ख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के

देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि पा साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा

देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी ईया है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 30

लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई

है रिपोर्ट भी नवीन जी धनं जीी आपन दोनों ही जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी

आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार है ओकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज

तक चलता मा कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से

होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती

ला बचक से भागत से ते म अबला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके और को पर्जन करे की कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बिसाय ब 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती

कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर दरी से लगभग 0000 करोड़ रुपया

हमन धान खरीद सरकार करजम लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की ओ आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लक्ष कि धर

135 लाख मिटिक न धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले रहे अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी ब कर लेकिन ज हिसाब से 31 जनवरी के धान बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ा जाए और 21

क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा हो ज कांग्रेस सरकार में 278 मिलना किसान वो तो मिल नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके शिकायत आ ताकि धान खरी

में धान उत्पन्न कर सके तो म लगते की भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे आ न खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा धान र्वती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम कर

किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जनत की बात करे हो 2 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवा दूसरा की जो अंतर के

राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर

के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे र आधार में खरीदी हो सीधा

भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पाच साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी न कांग्रेस की जो सरकार रही से तो

एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के रा अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के बजट प्रधान का नहीं कर दो साल के बोनस भी दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हमन हम सरकार की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल देब और

एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है ल दे बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 900 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते किसान नय योजना केम प्रति एकड़ हज से ऊपर के जो राशि

भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चता करसे रचना जी बोलते कपाला सरकार के बाद मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जी सरकारी से तो

किसान मंडला पेमेंट कर ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समल बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख

मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान और न्याय योजना के चौथा कित के जो पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान लग

ठ एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुम मला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क जी

न ठीक है जवाब ले ले नवीन जी देखो रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताए कि 300 हम जोड़ के दे वो समय मन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब

सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में दी स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है कि भाई जब जब जब धान के खरीदी हो जाई चकि 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल

खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद लेन ओकर बाद ये जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हम ला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत र खत्म देवो अभी लिकर पेट में गुगु मारते हो बता भाई जब भापा

बो किसान [प्रशंसा] नले न पैसा किसान सरेंद्र [प्रशंसा] मोदी पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सक नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न योजना में भी योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज नहीं दे सरकार के बजट दिखा दे कहा 40000

जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप भा एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना कहीं व लिए हम खुद अपन

घोष उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा बने अब योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा अब अगर एक जग बता किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे भाई रख रहे एमएसपी में जोड़ के मना कर तु बोनस बाब तु बोनस कैसे बा अगर तु सरकार

पैसा बोनस कैसे बा तो बोनस क के जब तुम पै दे रहे हो तो के बोनस बा ग बोनस अरे झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा जोड़ दे बोनस कैसे बा भया साल दस प्रदेश के किसान मला धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा के

बीजेपी क कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे लगी किसान किसान आप वादा करे दे तो आपके दत्व भी आपके धर्म भी हरे आपके जिम्मेदारी भी हरे हम सरकार वादा के दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन

मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो गना भाई त 31 धान की मुत पंचायत भवन का न देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी

करी भूपेश बल के सरकार 25 ना अंगा लगा काम कर हम मजबूर योजना बना चार कि पैसा दे प खुल ग खुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है बात रचना जी आप भा हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा

पत्र में उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं य कहा कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से

तो अंतिम किल जोड़ के नहीं दे बोन जोड़ के दे जो किसान के साथ अन्याय करना है दूसरा न जी दूसरा आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि

और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख कि हम का डबल बना और डेबल नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 एक्स्ट्रा जोड़ के आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है धान क्टल ब किसान बे खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला

दे घ आपन हवा चाहे कांग्रेस सरकार के न घोषणा पत्र घोषणा हो वोट दे जाते उ बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे

वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वोक कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथ 00 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद करर ई

तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हम बजट के व बजट आही तो खत्म जा बात ऐसे है हो लेकिन क तो मैं बता डर जारी हो ग ही मंत्रालय रडर ल जो आर्डर हमन करे [प्रशंसा]

लिए मतलब हैक मन के पेट में तो अभी किसान के मला वही चीज सामने नजर आ न जी भले आप निशाना सा आप कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास एक न लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का निशाना सा आपने देखो ये तो विधानसभा के

रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र से कि किसान मन अ आधा आबादी जिने न कहू ना कहू बीजेपी के संगे बंपर जीतन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान ते बनाए कोशिश कर ताक लोकसभा में एकर फायदा अ मिली देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हम किसान मन

के हित हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का ब वोट नहीं मिले इसके सा देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं म किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले हु और जीत हार के कारण

कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे किसान की आमनी पड़ ना यहां आप कर पाथ भई आप आर्डर जारी

करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना

हमा सरकार 20 क्विंटल कर से वही में 3100 दाम का नहीं लिखो कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी बार याला और किसान ता में पैसा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी

अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की 00 येय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द तो चीज के विरोध कर था तो विरोध नहीं कर किसान के पैसा दे दे कान दे कांग्रेस के आदमी किन के बा कांग्रेस [प्रशंसा] आमीन सर

नरेंद्र मोदी जी मना नरेंद्र मोदी जी मना ठीक प्रप मा किसान तो हाथ घोषणा कर हम तो ब से हाथ जोड़ के मांग किसान य उमी है य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए

है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई आप आप दोनों पहुना मन भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आपन के स्वागत है मैं ह आपन के संग रचना नितेश

छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठत काबर की भाजपा बताते कि ये ओकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान हितेश रही ने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही

कि ये श्रे के राजनीति कहां तक जाते एक ऊपर आज कर पंचायती द प हमर स जुड़ आ चुके हैं दोनों ही पले आपला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमार संग धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार

है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अका खरीदी कभी नहीं होए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक ईया है

राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के

घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीति घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा

कर रहे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ ये रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न

पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश

बगल सरकार ल देवाथे कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम उपेश बघेल की सरकार ह करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के

देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा

देश और यहां के जो किसान है वोह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुईया है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख

टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई

है रिपोर्ट भी नवीन जी धनं जी आपन दोनों ही जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ त में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में लेले पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता

पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है

आज तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से

होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार

2014 के रिकॉर्ड ला उस समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आए जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह

रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बिचक ही से भागत र से ते मन अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कहती करके अब लाभ लेकेज को पर्जन करे की कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो

धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसाय पर 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था

हो चाहे धान खरीद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार करर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्ज लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष के आगे पहुचा ना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान

नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे हम लक्ष कि र 135 लाख मिटिक टन धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले रहे अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर

पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लगते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस

सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लगते कि भार जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान

ी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आ न री पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा नवर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस काम कर किसान भय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में

जनत के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नजा देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राश केंद्र सरकार के देवा दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा

अभी मनहा ला जो अंतिम किस तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा था कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के

जो राशि वो 3 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं कहीं हमन यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई से खतम

ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में य जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी न कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में

अंतर के अंतिम चार चौथा कि ब जोड़ बजट प्रधान कर दो साल के बोनस भी दे करके झूठ बोल के ट ले लेकिन लेकिन हम हम सरकार की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त ल दे बावजूद

हम कहीं ना कहीं हम लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

के हमन दो साल के बोनस भी देह फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी दे तो ये प्रति एकड़ 00 से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की

सरकार देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला ल सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसे दे राशि लेखा है बता तो 40 हज करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से

बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करें 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला

दे और न्याय योजना के जो चौथा किस्त के जो पैसा रखा स भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा किस्त देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो

कोनो मिले कोनो नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सूरत बता तुम मला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घूम खड़े हुए क जी आ 3 नकदी ठीक है जवाब ले लेते नवीन जी देखो ऐसे

है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात होई से तो मैं आप लोग बताए हो कि 300 हम जोड़ के दे उस समय ए मन काब नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब र सरकार आए के बाद किसान

न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जा 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है

किसान के खरीद ले र बाद य जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत होर खत्म दे अभी लिकर पेट में गुगु मारते बता भाई जब [प्रशंसा] भानन पै किसान सर [प्रशंसा] सरकार किन मि नरेंद्र मोदी जी क योजना बनाना में भी च किसान म बोनस के नाम से

दे सरकार के ब दिखा 4 हज करोड़ के वस्था को करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन म हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो

अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं व लिए हम खुद अपन घोषणा योजना जो बनाए योजना में प्रावधान कर पैसा बा अगर जग बता किसान न्याय योजना के अम अरे रसपी में जोड़ जोड़ के दे रहे बोनस केब तुम प दे रहे हो के बोनस

बा बोनस बोले कम ईमानदारी [प्रशंसा] दि अरे हमन कसे सरकार प्रदेश के किसान मला धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा बीजेपी कहीं क दबाव प्रदेश में बिल्कुल देल किसान किसान आपदा कर दे तो आपके भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा के

दे पै किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो त 3 धान की मुत पंचायत भवन न देबो अब कहा की योजना बना के

देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकार 25 अंग लगा काम कर हम मजबूरी न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे

शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला

अब हम जिम्मेदार तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम की स्ल का जोड़ के नहीं दे तो बोन जोड़ के दे तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है

दूसरा चीज धनय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी राशि देख हम डबल बनाएगा डेवल नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके न

एक्स्ट्रा जोड़ के आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है धान क्विंटल ब किसान बे खाता में कहीं ना क सब मिला दे तो घ आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के हो लेकिन आपल घोषणा पत्र घोषणा होते जले वोट दे जाते उर बाद जनता ले कहीं ना कहीं

छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा किट भी अभी तक अटके हुए है तो वोक स्थिति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर

00 की आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद करर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन ग घोषणा हो ग है ना अब भाई जो प्रावधान करे हम बजट के वो बजट आही तो खता जा डर जारी कर बता डर जारी हो ग

मंत्रालय जो डर हमन करे [प्रशंसा] लिए मतलब हैक मन के पेट में तो अभी किन केला हीज आप निशाना सा कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास न लाख टन जदा के न खरीद लेकिन निशाना साथ के आपने देखो ये तो

विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग ही से की किसान मन अ आधा आबादी जने न कह ना कह बीजेपी के संग बंप जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आप फेर किसान बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आप मिली

देखो हमन किन त बना नहीं हम किसान मन के हित हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले ार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो

कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना यहां आप कर पाथ भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज तक आर्डर आप

जारी नहीं कर हम माथन की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर से वही 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान

देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर का का पार्टी किसान के स खड़े हुए वा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान

खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द क का चीज के विरोध कर था किन [प्रशंसा] बा सरकार नरेंद्र मोदी जी मना कर नरेंद्र मोदी जी मना कर प मना ठीक है आरोप प्रत्यारोप किसान घोषणा कर हम तो हाथ जोड़ के मा किसान य उमीद

है ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे य कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए हैं 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गाव फिर

प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई है आपला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान

हमेशा ही केंद्र में र और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एक [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ कावर की भाजपा बताते कि येकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते रने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना हुई

कि श्रेय के राजनीति कहां तक जाते एक ऊपर आज पंचायती द हम स जुड़ चुके दोनों ही पले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मार्कंडेय दूसरा ार हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखता करर बाद चर्चा के शुरुआत [संगीत]

कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख न तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक

के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मला मिली फिर एक कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीति घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के शति यह

रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा

सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सब ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे िति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कि 5 साल से हमारी सरकार

थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में

धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि

शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसान मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे हवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में

देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो

इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 रुप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हम मोदी सरकार जो शुरू

में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे आय जो लागत

मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से खती करके अब लाभ लेके और को पर्जन कर के कोशिश

करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाय एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान जो

पंजीकृत हो से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 400 करोड़ रुपया हम धान खरीद सरकार कर्ज ले से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान

सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे ल की 135 लाख मिटिक न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले रहे अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित

क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करें दो महीने बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस

सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके शिकायत आ ताकि धन खरी में धान उत्पन्न कर सके तो लगते कि भ जनता पार्टी की आने वाले ज धान खरीदी तो आज हम

जो लक्ष टारगेट करे आ धान खरी पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा धान खरी पूती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस काम कर किसान भय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़

के बात करे हो य नजा देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राश केंद्र सरकार के दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस तक राशि ले

प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बताता की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हमना का कर रहे उ जोड़ के दे

रहे है ना भा तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे हम सरकार रही जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो से खतम से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में

य जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के कालिए बजट प्रावधान

का नहीं कर और दो साल के बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के वोट ले र लेकिन लेकिन हमन हमार सरकार एक बात कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोल दे बावजूद

हम कहीं ना कहीं हम लगभग 9 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88 हज प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

के हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ दे और दूसरे तरफ हैय जोस राश भी जा तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम स्ल भी दे तो ये प्रति एकड़ 00 से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता

कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 10000 करोड़ पूरक बट पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर ब

कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से एक नवंबर से खरीदी की बात करें 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 21

किसान दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के पैसा रखा भूप सरकार व्यवस्था चौथा कि देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो को मिले कोन नहीं

मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसा 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए वि जी न ठीक है जवाब देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात होई से तो मैं आप लोग बताया की 300 हम जोड़ के दे व समयन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द हम किसान उन्नति

योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है कि भा जब जब धान के खरीदी हो जाई चक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद लेन ओकर बाद ये जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हम ला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत होकर खत्म देवो अभी लिकर पेट में गुगु मारते हो बता भाई जब हम पे किसान दे भाजपा किन ठ बोल पंचायत किसान खड़ पैसा ले किसान ड़ वि जी ले न के पैसा

किसान पैसा देने वा टाइम लगा जैसे हम सरकार सुन सरकार पद्र [प्रशंसा] मद मि किसान सा मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा त हम योजना बना योजना में भी ना च किसान म बोनस के नाम से दे सरकार के ब दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के व्यवस्था को

करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में ख हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा होही देखिए रचना जी मैं आप लोग का कहे हो भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो

कहीं ना कहीं व जो लिए हम खुद अपन घोषणा उन्नति योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत जा योना बने योजना में प्रधान करसा अब अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना के अंतिम रख रहे अरे रख रहे एमएसपी में जोड़ के मना कर तु

सरकार तो बोनस केब तुम पै दे रहे हो के बोनस बा बोनस अरे झूठ बोले कम ईमानदारी दिखा सा प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा बीजेपी क ना कहीं दबाव प्रदेश बिल्कुल दे ल किसान किसान कर दे आपके दायित्व भी है आपके धर्म

भी आपके जिम्मेदारी भी हैर हम सरकार वादा के दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो भाई त

300 धान की मुत पंंचायत भवन न देबो अब कहा योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकार 25 ना अंग लगा काम कर हम मजबूरी न योजना बना चार कि पैसा दे खुल खुद उन्नति योजना

माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है बात रचना जी आप कि भा हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं यह कहा था कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोष पढ़े आधार में हम

सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम देन बात ऐसे मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम की स्ल का जोड़ के नहीं तो बोन जोड़ के देला जो है किसान के साथ अन्याय करना है

दूसरा चीज धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम डबल बना और डबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति

योजना लाके 9 2520 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस

सरकार के ई लेकिन आप नहीं लगे की घोषणा पत्र में जिनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के कयान में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि

के हो देखो चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है तो वो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर 00 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था योजना बनाए जाहीर बाद तो बहुत लंबा योजना तो बन ग घोषणा हो ग ना अब

जो प्रावधान करे बजट के व बजट आही [प्रशंसा] हो मंल डर [प्रशंसा] हम मल मन के पेट में तो अभ किसान के मला वही ठीक भले आप निशाना सा आप कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास न लाख टन ज्यादा के धान रीद लेकिन का एक तरले

निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग रही से कि किसान मन अ आधा आबादी जने न कह ना कहू बीजेपी के संग बंप जीत कर मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान ते बना की

कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आपला मिली देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हमन किसान मन के हित हर तो फिर कांग्रे तो फिर कांग्रेस ला का ब वोट नहीं मिले इस चुनाव में हाजिर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान

बन के मिले जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप

कर पा भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर

आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के खड़े हुए बारबार यादला और किसान मन के खाता में पैसा ा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी

देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की 00 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द ड का चीज के विरोध कर रो काे आदमी किन [प्रशंसा] बा सरकार मा नरेंद्र मोदी जी ठीक है आरोप प्रत्यारोप

घ तो हाथ जोड़ के मा किसान यमी ठीक ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप मा एक इतिहास आ अपन आप एक

रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई है आपला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान

हमेशा ही केंद्र में र और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास क केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एक [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ का की भाजपा बताते कि यह र घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते की पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते रने एक से य बंपर खरीदी

हु है अब देखना ही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते एक ऊपर आज पंचायती द ज दोनों ही पले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है

पहली रिपोर्ट देखकर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के का खरीदी कभी नहीं हुई यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है

राज्य सरकार ₹1 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए हैं एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के

घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति मा लेक श्रे के राजनीति घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख सेथ सरकार के मंत्री दावा कर

थे कि किसान हिताशी सरकार के सति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा तरह से कर वाले प्रश्न पूछेंगे

और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश

बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सब ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे ति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देख

तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के

जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा

धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन

देखे आओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो

पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं होए और

निश्चित रूप से जो योजना बने हैं वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर के जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेक आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक रही से

भागत र से ते मन अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से खती करके अब लाभ लेके और को पर्जन कर के कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बिसाय पर एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस

सरकार के दौरान हो गई और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कररी से

लगभग 0000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा में लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष्य र आगे पहुंचा था नामा वर्तमान सरकार के फूटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लक्ष कि धर 135 लाख

मिटिक तन धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाया जाए और 21 क्विंटल

सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के सान धोखा होए जो कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ

ताकि धन खरीद में धान उत्पन्न कर सके तो म लगते कि भ जनता पार्टी की जो आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा र्वती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस

काम कर किसान बय ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा है देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राश केंद्र सरकार के देव

दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवते अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम

अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हमना का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र

आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी न

कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ केलिए बजट प्रधान का नहीं कर और दो साल के बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन

लेकिन हमन हमर सरकार बत की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एक जो बचे हुए जो अंतिम कि ल दे बावजूद हमन कहीं ना कहीं हम लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि

है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो यह 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ

है कि एसपी राशि भी जा तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी दे तोय प्रति एकड़ 00 से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते कपाला अरे

मैं कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 00 करोड़ पूरक बजट पूरक बजट ले कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राश लेखा बता तो मा 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से

खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के पैसा

रखा भूप सरकार व्यवस्था चौथा कि देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में

धान के पैसा 00 एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि जी आ नद पता नहीं ठीक है जवाब लेते नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप

लोग बताया हो कि 300 हम जोड़ के देह वो समय ए मन का नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब र सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हमन का किसान उन्नति योजना बना के हम एक

मु दूसरा तरफ है कि ज जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद लेन र बाद ये जब खरीदी

कंप्लीट हो जा तो अब हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत होकर खत्म देवो अभी लिकर पेट में गुड़ी मारते बता भाई [प्रशंसा] किन [प्रशंसा] सरद किसान साथ नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा तब हम न योजना बनाए योजना में भी नना च र किसान म बोनस के नाम से

दे सरकार के ब दिखा दे कि कहां 400 करोड़ के व्यवस्था को करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की 00 के जन वादा रही से वो कब तक पूरा होही देखिए रचना जी मैं आप का भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो

अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना कहीं व जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान उन्नति योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत जा अब वो योजना बने हैं अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के र बाद तो जाही तो

मनहा अब अगर एकर जगह बतावा थे कि हम किसान कहा थे किसान उ न्याय योजना के अंतिम के स्थल रखे रहे अरे भाई रखे रहे तो ला एमएसपी में जोड़ के का नहीं दे कौन मना कर र तोला 300 जो सरन कैसे तो बोनस क के जब तुम पै दे रहे

हो तोर के बोनस बाच ग बा बोनस अरे झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा पड़ दे अरे भैया दो साल के बोन नस प्रदेश के किसान म धोखा दे भती जनता पार्टी बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा बीजेपी कहीं कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे

किसान दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी है आपके जिम्मेदारी भी ह हम सरकार वादा के दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं होन हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम

अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो त 31 धान की एक मुत पंचायत भवन न देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकार क

25 ंग लगा काम करी हम मजबूरी में न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप का क कि भाई हमन

उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भा जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र प आधार में हम सरकार में लामेद बात है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे

जब तो अवसर मिली से अंतिम जोड़ किसान के साथ योना यो दूसरा चीज धनजन जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध हैई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी

की राशि देख भा हम डबल बना डेबल नहीं नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना एक्स्ट जोड़ आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है न क्टल किसान बे खाता में कही ना क य सब मिला दे तो घोषणा आपन के हहे कांग्रेस सरकार के घोषणा पत्र

सेती ही जनत वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वो कहीं ना

कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर थे 300 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाही र बाद तो बहुत लंबा योजना तो बन ग घोषणा हो गए ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के व बजट आही खम [प्रशंसा] लेकिन हो

मंल जो डर हम [प्रशंसा] कर मतलब है मन के पेट में तो किसान के मलाम ले आप निशाना सा कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास न लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का य तरले निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा

के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र से की किसान मन अ आधा आबादी ज न कह ना कहू बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन आप फेर किसान बना कोशिश करता कि लोकसभा में एक फायदा आप मिल देखो हमन किन

हिसी बना नहीं हम किसान मन के हित हर तो फि फिर कांग्रेस ला का वोट मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले जीत के कारण क हम तो कहा किसान ला 31 धान कीमत वादा

करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पा भा आप डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ आज तक डर आप जारी नहीं कर हम माथ की

योजना पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरी कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्टल कर व 3 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वा

बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर करबो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की 00 ये हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द

ते क डरे तो का चीज के विरोध कर भया तो विरोध किन काे आमी किन [प्रशंसा] बा सरकार नहीं च माना रद्र मोदी जी मना नरेंद्र मोदी जी मना ठीक है आरोप प्रत्यारोप किसान घोषणा कर हम तो ब से हाथ जोड़ के मांग

किसान ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए हैं 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप माय एक इतिहास

आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गा फेर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और बधाई है आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंचायती मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग

रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते हीने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही

किय श्रे के राजनीति कहां तक जाते एक ऊपर आज पंचायती हम जुड़ आ चुके हैं दोनों ही पले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े हवाई दूसर हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखकर बाद चर्चा की शुरुआत

[संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 300 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड य बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के

सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेके श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार

की स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार

जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा

सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबले ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5

साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे

हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान की उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएगी फिर

देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाकर रुख राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन

देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार है और वकर जो नीति है

वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और

निश्चित रूप से जो योजना बने है व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 0प के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व

920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हमन लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला और व समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023

तक के 24 तक के जो डबल करबो कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वह कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती लापन अ ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत र से

तेन अला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बिसाय पर एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो

ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान जो पंजीकृत होरी से व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हम

धान खरीद सरकार कर्ज ले तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान सरकार के फटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे हम लक्ष की 135 लाख मि न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के

हिसाब से निकाले र अब 2 क्विंटल बा कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से 31 जनवरी के धान बंद कर जा हम तो मांग करें दो महीने बढ़ा जाए और 2 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 31 दे जाए तो लागते

को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा हो कांग्रेस सरकार में 278 मिल किसान वो तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके शिकायत ताकि न न उत्पन्न कर सके तो लगते कीन आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष

टारगेट करे आ न री पाही और किसान धोखा काम हु पूरा पूव कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन कांग्रेस काम कर किसान य नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत आप के बात करे हो 2 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य का

नतीजा देख बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी रा केंद्र सरकार के देवते दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं

बताता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार

सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 300 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान

नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के बजट प्रधान का नहीं कर और दो साल

के बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के ट ले रही लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बात की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त तोल देर बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग

920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो यह 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर

य अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ य जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर की

जरूरत देखो ऐसे है रचना जी बोलते सतना कपाला लठ ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक बट पूरक बजट ले कौन जग धान खरीदी पैसा दे राशि लिखा है बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा

लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल सम बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 14 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला

दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो को मिले

को नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क जी आ न ठीक है जवाब नवीन जी देखो ऐसे

है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे वो समय मन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना

के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम एक मुथा दूसरा तरफ है कि भाई जब जब धान के खरीदी हो जाई चक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करें हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो

खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद लेन ओकर बाद ये जब खरीदी कंप्लीट हो जाही तो अब हमला किसान उन्नति योजना के अंतर्गत होकर खत्म देवो अभी लिकर पेट में गुगी मारते हो [प्रशंसा] बतान किसान सर [प्रशंसा] सर मिल सकते किसान मि स नरेंद्र मोदी जी

कगा योजना बनाना में भी च र किसान म बोनस के नाम से दे ब दिखा दे कहा 400 करोड़ व सवाल ये सवाल किसान मन के मन में हवाई की 3 के वादा रही वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी आप एमएसपी अपन आप में अलग है और जो अंतर

के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं व लिए हम खुद घोष किन उन योजना जो बनाए अत अच्छा अब अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना के अंतिम रख रहे अरे रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना कर त तु बोनस क

मागा तु बोनस बा जब तुम दे बोनस कैसे बागा अगर तु सरकार बोनस कैसे बोनस के जब तुम पै दे रहे होर के बोनस बा ग बोनस अरे झूठ बोले कम से ईमानदारी दिखा जोड़ बोनस [प्रशंसा] कैसे प्रदेश के किसान म धोखा भारतीय जनता पार्टी बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा बीजेपी

कहीं कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल देल किसान किसान कर किसान धोखा नहीं हम हर मामला किन लेकिन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा हम अंतर के रा दे तो पकड़ में न की पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमरा कर काम करेना

यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर भूपेश ब के सरकार काम कर हम मजबूरी योजना बनार कि पैसा दे खल ुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक रचना जी मैं आप क कि भा हमन उन्नति योजना बनाए हम

अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम देन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोसर

मिली से अंतिम कील का जोड़ के नहीं तो बोनस जोड़ केब जो किसान के साथ अन्याय करना है तो न्याय नहीं करना र न्याय योजना ढकोसला योजना ते और दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप लोग का क कि हमार जो सरकार है वो

प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे हैं आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम डबल बना और डबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब

करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप लगे की घोषणा पत्र

घोषणा होते र सेती ही जनत ले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा कि भी अभी तक

अटके हुए है तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते है तो जनता अब अगोरा कर थे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद करर हुई तो बहुत लंबा हो योजना तो बन के घोषणा

हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के वो बजट आही तो [प्रशंसा] नर [प्रशंसा] हम किन केही चमने ले आप निशाना सा कना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास न लाख टन ज्यादा के न खरीद लेकिन का त निशाना साथ

के आप देखो य तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी न क कह बीजेपी के संग ब अब निशाना साथ केन किसान बना को कर लोकसभा फायदा मि देखो हम बना किसान मन कांग्रेस वोट चुनाव में हा के अंतर कई

सारे कारण होते किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की

आमदनी पड़े ना यहां आप कर पाते हो भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर

जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम करथ कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए हम वादा बारबार याद दिलाब और किसान मन के खाता में पैसा डाले मजबूर करबो ठीक है एक

लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 कुंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की 00 द ये हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द लगर ते क डरे तो का चीज के विरोध कर था विरोध तो कांग्रेस आदमी किसान

के कांग्रेस आदमी किसान के [प्रशंसा] बात भापा सरकार नहीं चला मांगना नरेंद्र मोदी जी मना कर नरेंद्र मोदी जी मना कर ठीक है आरोप प्रत्यारोप किन 3 घोषणा भी कर हम तो ब से हाथ जोड़ के मांग किसान दे यही उमीद है जल्द जल्द ठीक ठीक है है ठीक ठीक है चाहे य

भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गा फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम

है बधाई है आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र और आज तो प्रदेश एक

नवा इतिहास रचे है ओ केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करब आज के पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त होते फिर

सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बताते कि येकर घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान हितेश रने एक से ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना होही कि य श्रे के राजनीति कहां तक जाते एकपर आज

करब पंचायती द हमार संगमा जुड़ आ चुके हैं दोनों ही पले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसर हमार संगमा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखता करर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत]

कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख जन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में रीब सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक

के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश के 24 लाख से ज्यादा किसान मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हित सरकार की स्थिति यह

रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया हो इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देव कांग्रेस के राज्यसभा

सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5

साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे

हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान के खरीदी हो जाएगी

फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन

देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार है और वकर जो नीति है

वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित

रूप से से जो योजना बने हैं वोमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला और वो समय से लेकर आज

तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे होकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से और खेती

लापन मेहनत करके ज खेती बचक र से भागत र से तेला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर की कोशिश करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बिसाय पर एक नवंबर के धान खरीदी

घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान पंजीकृत हो से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस

सरकार कर से लगभग 40 हज करोड़ रुप हम धान खरीद सरकार कर्ज ले तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष

की र लाख मिट न धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो मना

बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा हो ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना

रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लगते भ जनता पार्टी की आने वाले सम ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा धान खरी पाही और किसान धोखा काम हुआ रावती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा

साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात कर हो य नतीजा है देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है राश केंद्र सरकार

के देवते दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है तो झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता था कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार

बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे किई हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार

में खरीदी हो सीधा भुगतान हो खतम एसपी साथ साथ से लेकिन आज के डेट में य जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एसपी

के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के रा अंतिम चार चौथा किस्त बचे जोड़ के बजट प्रधान का कर दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के ट ले लेकिन लेकिन हम हम सरकार की दो साल के पुराना जो बचे हु बोनस ल दे और जो बचे हुए जो अंतिम

किस्त बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

के हमन दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देवा और तरफ एमएसपी के राशि भी जा तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी दे तोय प्रति एकड़ हज से ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर की

जर देखो ऐसे है रचना जी बोते जला सलम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 00 करोड़ पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीद पैसे दे राशि लिखा है बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब

कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल साला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140

लाख म से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के जो चौथा किस्त के जो पैसा रखा भूपेश सरकार व्यवस्था के किस देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से

किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो को मिले को नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घम खड़े हुए क वि सा जी आ नगदी

ठीक जवाब नन देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात हुई से तो मैं आप लोग बताए हो कि 300 हम जोड़ के देह उस समय ए मन का नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान

तो ए मन जब र सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हमन का किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल

खरीदी अभी शुरू करे तो भा जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो अब हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खम दे [प्रशंसा] बता किसान [प्रशंसा] नन प किसान योना [प्रशंसा]

सर किसान नरेंद्र मोदी जी योना बनाना में किसान म बोनस के नाम से दे तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहा 40000 करोड़ के वस्था को करे जीय सवाल ये सवाल किसान मन के मनत हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप

ई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं व लिए हम खुद अपन घोषणा किन उन्नति योजना जो बनाए अत जा योजना बने है योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जाही तोन अब अगर एक जगह

बता किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना कर 300 नसे अगर तु सरकार बोनस केब रहे [प्रशंसा] होन बोनस ू बोले कम ईमानदारी दि साल के प्रदेश के किसान म भारतीय जनता पार्टी करता घोषणा पत्र में रही बीजेपी क क दबाव प्रदेश बिल्कुल

किसान ह 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा के दे प किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश

दे तो पकड़ में तो 3 धान की मु पंचायत भवन दे अब कहा योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकार काम कर हम मजबूरी योजना बना कि प ल उन्नति योना माध्यम से दे मतलब

नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना किसान जल्दी ठीक है बात रचना जी आप हम उन्नति योजना बनाए हमन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा जब हम घोषणा किसान घोषणा पत्र पढे आधार में हम सरकार में ला जिम्मेदार बात एक प्रश्न पूछता कांग्रेस

से कि भाई जब सरकार में रहे जब तो अवसर मिली से अंतिम जोड़ जोड़ किन साथ अन्याय करना है न्याय नहीं करना न्याय योजना ढकोसला योजना दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है किई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14

2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी राश देख हम डबल बना डबल नहीं लिए जो किसान नति योजना लाके 20 एक्स्ट्रा जोड़ के तो आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है धान क्टल ब किसान बे खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला अगर दे तो

00 घोषणा आपन के हहे कांग्रेस सरकार के न आप घोष जन तराले घोषणा होते र सेती ही जन तराले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे

वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा किट भी अभी तक अटके हुए हैं तो वोक स्थिति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही

उकर बाद करर हुई तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे बजट के वो बजट आही [प्रशंसा] मंल डर [प्रशंसा] हम के पेट में तो अभी किसान केला वही सामने आप निशाना सा कहना आपन के पा साल के

कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास एक न लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का त निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र की किसान मन आधा आबादी न कह कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन

फेर किसान बना की कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा आप मि देखो हमन किनसी बना नहीं किसान मन के त तो फ का फर कांग्रेस वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश किसान मन के मिले हो और जीत

हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पा भई आप आर्डर

जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान ख डर जारी करे हो ना हम

सरकार 20 क्विंटल कर व 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चा धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के खड़े हुए बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा ा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया

कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 2 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की 00 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शबद अगर ते क डरे तो का चीज के विरोध कर था किन के बात कांग्रेस आदमी किसान के [प्रशंसा] बात भा 3 तो डं बजा किसान के

साथ भापा सरकार चला मांगना नरेंद्र मोदी जी मना आरो प्रप घ हाथ जोड़ के मा किसान यमी ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात ये है कि एक नवा कीर्तिमान

आज रचे गए 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गा फेर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है आप बधाई है आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत]

जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नीतेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर

छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काब की भाजपा बता थे कि ये उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा

धार कांग्रेस बता थ कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना होही किय श्रेय के राजनीति कहां तक जाते एकरे ऊपर आज करब पंचायती पना हम स जड़ चुके दोनों ही पना आप इंट्रोड्यूस करा दे हमर

संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसर हमार संग धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा के शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ केहा मा

खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक

रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र

फायदा प्रदेश की 24 लाख किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देखर सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार की स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले

100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों

में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देव कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में

श्रे कैसे ले सकते सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी

और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक

धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाक रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन

मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग

कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमर

किसान केंद्रित नीति ही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं

920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हमन लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार

2014 के रिकॉर्ड ला और वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक

उत्साहित रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत से ते बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में

धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति किसान से खरीद जाही और प्रदेश के साढ़े लाख किसान पंजीकृत बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार

कररी से लगभग 400 करोड़ रुप हम धान खरीद सरकार कर्ज ले से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष की र 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई

27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात करथ तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और

3100 दे जाए तो मसे लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं अभी 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आथ ताकि धान खरीद में धान

उत्पन्न कर सके तो की भ जनता पार्टी आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आ न ही और किसान धोखा काम हुरा कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस काम कर किसान बय नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र

जत के बात करे हो कुंटल प्रति एकड़ की बात कर न देख बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवते दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान

नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हमना का कर जोड़ के दे रहे हैं है ना भाई तो कहीं

ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के देर आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो से खतम से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी

ला रोक के रखी पाट पाट में और दूसरा तरफ अभी मन कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं बजट प्रावधान का नहीं कर और दो

साल के बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के ट ले रही लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त तो दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 9 20 से ऊपर के जो

खरीदी जो अंतर की राशि उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हम दो साल के बोनस भी दे

फिर अंतर के राशि भी बढ़ दे दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते है अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम कि स्ल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल

भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता कर की जरूरत सरकार पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जुला लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद तो मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अनुपूरक बजट ले व कौन जग धान

खरीदी पैसा दे राशि लिखा है बता तो मा 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन

धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल साला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भूपेश सरकार व्यवस्था के चा कि देना है तीन ठ दे चुक

तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के

पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि सा जी आ 3 नगदी ठीक है जवाब ले ठीक है जवाब ले लेते नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात हुई से तो मैं आप लोग बताया हो कि 300 हम जोड़ के देह उस समय मन काब नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मनहा जब इर सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे द चार

बार में द सवे हमन का किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है कि ज जब धान के खरीदी हो जा चकि 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद लेन र बाद य जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो अब हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खत्म दे अभी र पेट किसान [प्रशंसा] न पैसा किसान अरे का उन्नति किसान वैसे उन्नति करर पैसा देने वा टाइम नहीं लगा जैसे हमार सरकार सुनना हमार सरकार ना पहली नरेंद्र [प्रशंसा]

मोद पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सकय नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न्याय योजना में भी न्याय योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज नहीं दे मैं कहा था तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के व्यवस्था को

करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मनत हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप लोग भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना

कहीं जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान उन्नति योजना जो बनाए अयोना बने योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा जा अगर जग बता किसान न्याय योजना के अंतिम रख रहे अरे रख रहे एमएसपी में जोड़ के मना कर बोसे सरकार [प्रशंसा] नस लेनदार

प्रदेश के किसान खा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता वादा घोषणा पत्र बीजेपी क क दबा प्रदेश बिल्कुल देल किसान अगर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी हर आपके जिम्मेदारी भी हर हमरो सरकार वादा के सं

दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के आग खड़े र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था भा कि हम अंतर के राल देबो तो पकड़ में तो गना भाई त 3100 धान कीमत एक मुस्त पंचायत भवन

नग देबो अब कहा की त योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बल सरकारी क 2500 दना अंगा लगा काम करी हम मजबूरी न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पोल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के

माध्यम से देब मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है बात ऐ रचना जी मैं आप का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए ना हम अपन घोषणा पत्र में क उन्नति योजना र माध्यम से देबो लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हम घोषणा

पत्र किसान घोषणा पत्र पढे आधार में हम सरकार में ला हम जिम्मेदार तोन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम किल का जोड़ के नहीं किसान के साथ अन्याय करना है तो न्याय नहीं करना न्याय योजना ला

योजना दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी देख हम डबल बना और डबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके

9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है जो धान क्विंटल अगर बेची किसान बे खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला के अगर दे तो 00 घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार

के ई लेकिन आप ल की घोषणा पत्र में जन तले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि

के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाई जाही र बाद करर तो बहुत लंबा

हो योजना तो बन के घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के वो बजट [प्रशंसा] [प्रशंसा] हम देक मन के पेट में [प्रशंसा] तो निशाना कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास ला नदा री लेकिन का निशाना साथ के आपने देख य तो विधानसभा के

रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी क क बीजेपी के संग ब जीत अब निशाना साथ केर किसान बना कोशिश कर लोकसभा फायदा मि देखो हम किन बना किसान मन ि कांग्रेस वोट चुनाव में हार के अत क सारे कारण होते किसान सहयोग प्रदेश के

किसान बन के मिले ह और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की

आमदनी पड़ ना यहा आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होते आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते

आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप देना नहीं चाह और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के सा खड़े हुए वा बारबार याद दिला और किसान मन

के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की की 00 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शबद

अगर क डरे तो चीज के विरोध कर था तो विरोध नहीं कर का आदमी किन के बात कास आदमी किसान के [प्रशंसा] बा असली सर मांगना नरेंद्र मोदी हाथ जोड़ के मा किसा य उमी ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे

ये कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात ये है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में य एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गा फेर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई

है आप मला कर संगे आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र आज तो प्रदेश एक नवा

इतिहास चे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद काबर उठत काबर की भाजपा बता

थे कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही किय श्रेय के राजनीति कहां तक जाते एकरे ऊपर आज पं सड़ चुके दोनों ही आप

इंट्रोड्यूस कर हम संग मा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूसरा स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े ह दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आकड़ा 11 लाख टन तक पहुंच गए गढ के इतिहास में

खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुया है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के

सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान

मल्ला मिली फिर एक कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के स्थिति ये रिकॉर्ड बने हैं हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले

100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों

में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में

श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देन है देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार

दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लक बना काबर के 31

जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन

मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार केला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों

जन एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हू पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15

साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर किसान केंद्रित नीति ही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं वमा अ निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित

धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं अ 920 के जो एकदम से होकर जो अ एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है वह 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनः अ र सही मूल्य जो

हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे आय जो लागत

मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे वकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन अ ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक रही से भागत र से ते मन अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती

करके अब उका लाभ लेके और जी को पर्जन करे के कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसाए ब 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़

किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर लगभग 40000 करोड़ रुपया हम धान खरीद सरकार कर्ज

ले र तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि र 135 लाख मिट न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से

अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मैंने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है

लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो लागते की भ जनता पार्टी की आने

वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ रावती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन

पत्र में जनत आपन 00 के बात करे हो 2 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नतीजा है देखो बात ऐसे है पा साल में करे एमएसपी के राशि केंद्र सरकार के देव दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते

झुला झुला के चार बार में देवती अभी ए मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के

राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी

हो सीधा भुगतान होई सेर खतम से एसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार से तो

एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के बजट प्रधान का नहीं कर दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हमन हम सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र तोल दे

और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त तो दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उला देके बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा दे और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते है और तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो

अंतिम कि स्थल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता कर की जरूरत सरकार पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी यही बोलते ना सूतना कपास जुलाह लम लठ अरे मैं

कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 10000 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो मा 40000 करोड़ रुपया ये भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से

1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना एक 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83

किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भूपेश सरकार व्यवस्था के चा कि देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन

मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसा 300 एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि जी आ 3 ठीक है जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे

है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे वो समयन का नहीं दिस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना

के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भा जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद ले र बाद य जब खरीदी कंप्लीट हो तो हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खत्म दे पेट में म किसान [प्रशंसा] ले न पैसा किसान उ किसान वसे उ पैसा देने वा टाइम लगा जैसे हम सरकार सुन सरकार [प्रशंसा] पद्र पैसे मिल सकते किसान साथ नहीं मिल स

नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न योजना में भी च रख किसान म बोनस के नाम से दे को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहा 400 करोड़ वस्था को करे सल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई

की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष में किन उ योजना बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने है अब योजना में

जो अभी प्रावधान कर पैसा केर बा तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बता कहा किसान उ न्याय योजना के अंतिम स्ल रखे रहे अरे भाई रखे रहे तो ला एमएसपी में जोड़ के का दे कौन मना कर नरेंद्र मोदी नरेंद्र मोदी रोका था तु [प्रशंसा] सरन बोनस ू बोले कम नदार

दिसे किसान म खा भारतीय जनता पार्टी कर घोषणा पत्र बीजेपी क द प्रदेश बकल किसान आप वादा करे 3100 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी ह हम सरकार वादा के सं दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर

मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तोई त 31 धान की मुत पंचायत भवन न देबो अब क योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर

सरकारी काम कर हम मजबूरी योजना बना चार कि पैसा दे खुल ग खुद खा उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप कि हम उन्नति योजना बनाए ना हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति

योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढे आधार में हम सरकार में ला जिम्मेदार तो हमन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम किल का जोड़ के

नहीं जो है किसान के साथ अन्याय करना है नय नहीं करन योजनास योजना दूसरा चीज है धनज जी दूसरा चीज मैं आप हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी

देख हम डबल बना ल नहीं नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा व जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो

00 में जान जी चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन लगे की घोषणा पत्र में जन तरले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिन

में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वति कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर थे 300

की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाही र बाद करर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन ग घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट के बजट आही [प्रशंसा] खम हो मंल डर हम [प्रशंसा] कर मन के पेट में किन

केही निशाना सा कहना के साल के कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास ला नदा के धान खरीदी हु ह लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र की किसान मन अ आधा आबादी जि न कह ना कह

बीजेपी के संग बप जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान हित बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आप मिले देखो हमन किन हिसी बना नहीं हम किसान मन के हित तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं

मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर कई सारे कारण होते हैं किन के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले ह और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो

देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पाते हो भा आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होते आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ

की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर व 31 दाम का नहीं लिख आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर काम कर

कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए वा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीद भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की

00 य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शद चीज के विरोध कर भ तोन कांग्रेस आदमी किसान के बात कर कांग्रेस आदमी किसान के [प्रशंसा] बात सरकार माना दे पैसा रद मोद नरेंद्र मोदी जी मना आरोप प्र किसान तो हाथ 3 घोष हम तो से हाथ जोड़ के मा किन य उमीद

है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात य है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ

अपन आप एक रिकॉर्ड है गा फेर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई है आप मला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आपन देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना

नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद काबर उठ काबर की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब

देखना ही कि ये श्रेय के राजनीति कहां तक जाते एकरे आज करब पंचायती दो पहुना त को हमर संग मा जुड़ आ चुके हैं दोनों ही पहुना ले आप मला इंट्रोड्यूस करा देन हमार संग मा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े हए दूसरा हार हमार संगमा धनंजय सिंह

ठाकुर जी जुड़े हए दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़

ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुया है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हैवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल

प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेके श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा

सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो

गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस

के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ला देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार करे रे

स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने

हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वोह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा

धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ले ज्यादा धान के खरीदी हो जाएगी फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए

है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनं जी आपन दोनों ही जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता

हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमन जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर

किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने है व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं

920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है व2 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन उकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके तो आप देखो कि हमर

2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे आ जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती

अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बीचक रही से भागत र से ते मन अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कहती करके अब लाभ लेके और जी को पर्जन कर के कोशिश करा थ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी

प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के सा किसान जो पंजीकृत होर से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान

के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्ज ले रही से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष के र आगे पहुचा नामा वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं

कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे न लक्ष कि धर 135 लाख मिटिक टन धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज

हिसाब से मने 31 जनवरी के धान बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते कि को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 2800 म मिलना

किसान ला वो तो मिल नहीं अभी 213 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरीद धान उपन कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे

आधा धान खरीद पा और किसान धोखा काम हुआ रा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 00 के बात करे हो 2 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नतीजा

है देखो बात ऐसे है साल करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है तो झुला झुला के चार बार में देवती अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद हुई कि मैं

बताता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि हमर सरकार रही की

जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो खतम से एसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में य जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट

में और दूसरा तरफ अभी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश होकर अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के बोनस ला भी मन देवो करके झूठ बोल के वोट

ले रही लेकिन नहीं लेकिन हमन का क हमार सरकार बात कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र तल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तल देबोर बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि

है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ दे न और दूसरे तरफ

है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के रमन के जो अंतिम तल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता करने की जरूरत

नहीं पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जला लम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 10000 करोड़ पूरक ब पूरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसा दे राश लेखा बता तो 400 करोड़ रुपया य भूपेश बगल सरकारी से किसान मंडला पेमेंट कर

कर्जा लेरी से बारदाना व्यवस्था कर से 1 नवंबर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के डर वो हिसाब से 125 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल बढ़ दे तोय खरीदी जाना चाहि ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और

न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा र स भूप सरकार व्यवस्था के चा कि देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं

मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घम खड़े हुए क ठीक जवाब नन जी देखो ऐसे है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो

खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे व समय ए मन कास पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द हम

किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है कि जब जब धान के खरीदी हो जा चक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद लेन र बाद ये जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो अब हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खतम दे पेट में [प्रशंसा] मता किसान [प्रशंसा] ले न पैसा किसान उन्नति योजना उ किसान उर पै देने वा टाइम लैसे हम सरकार सुन सरकार पहद [प्रशंसा]

मोद पैसे मिल सकते किसान सा नहीं मिल सकय नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न योजना में भी नना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व जम को नहीं दे मैं तो कहा था तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के व्यवस्था

को करे नहीं कर सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त को हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप लोग का क भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है हम और जो अंतर के राशि देवत वो अलग है

तो कहीं ना कहीं वक जो लिए हमन खुद अपन घोषणा में किसान उन्नति योजना जो बनाए अंतर्गत योजना बने योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा तोन अब अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना

कर में हा 300 जोड़न नस कसे अगर तु सरकार पैसा तो बोनस कैसे तो बोनस क के जब तुम पैसा दे रहे होर के बोनस कहां से बाज गए कहां बा दर बोनस अरे झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा तोड़ बोसे अरे भया सा प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता

पार्टी कर बता घोषणा पत्रही बीजेपी क क दबाव प्रदेश बक किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा प किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ लेकिन जन प्रकार

से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमरा कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बगल के सरकारी क 25 ना अड़ंगा लगा

काम करी हम मजबूरी में योजना बनाए चार किसम पैसा देन और पोल खुल गए जब खुद खा के उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी म पैसा नहीं देवन मैं शुभकामनाए देता किसान मल जल्दी 3ओ ठीक है ठीक है देख बात ऐ रचना जी मैं आप लोग का क

कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हैं ना हमन अपन घोषणा पत्र में क उन्नति योजना र माध्यम से देबो लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं

एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम किल का जोड़ के नहीं हम तो जवाब देता हूं जो है किसान के साथ अन्याय करना है नय नहीं करना नय योजना ला योजना दूसरा चीज धनज जी दूसरा चीज मैं आप

हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राश और आज के हिसाब से एमएसपी देख हम डबल बना ल नहीं नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब

करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान क्टल अगर बेची किसान बेच र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 जी चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आप नहीं लगा कि घोषणा

पत्र में जन तले घोषणा होते र सेती ही जनत ले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के होए देखो अब चौथा

कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाई जाही उकर बाद हो करर ई तो बहुत लंबा हो योजना

तो बन गए घोषणा हो गए है ना अब भाई जो प्रावधान करे हैं बजट ब [प्रशंसा] आ मल डर [प्रशंसा] हम मन के पेट [प्रशंसा] में निशाना सा कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास न ज्यादा के धान खरीद हु लेकिन का त निशाना साथ के

आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो की किसान मन आधा आबादी ज न कह कह बीजेपी के संग ब जीतन अब निशाना साथ के आप अप फर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में फायदा मि देखो हमन किन बना नहीं किसान मन के

ि कांग्रेस वोट देख चुनाव में हार के अत क सारे कारण हो हो किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो

तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पाते हो भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम

मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान ख डर जारी कर हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का का आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर काम कर कांग्रेस

पार्टी किसान के स खड़े हुए वा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डाले मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की की

00 येय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द क डरे तो का चीज के विरोध करा था कांग्रेस आदमी किसान के बात कांग्रेस आदमी किसान के [प्रशंसा] बा भा सर मा नरेंद्र मोदी जी मना कर आरो प्र किसान हाथ घोषणा कर हम तो से हाथ जोड़ के मा किसान य उमीद है

ठीक है ठीक है ठीक है ठीक ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ

अपना आप एक रिकॉर्ड है फेर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है आप बधाई आप मला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान

हमेशा ही केंद्र में आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास चे केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड काबर होते सियासत करब आज के पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर

सियासत के बाद का ब उठत हवा कबर की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरले उमन किसान हितेश रही ने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही कि ये श्रे की राजनीति कहां तक जा

आज पं चुके दोन ही इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मार्क जी जुड़ दूस धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़ दोन जन जोहार है पह रिपोर्ट दे बा चर्चा के शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आकड़ा 11 लाख पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में

खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुईया है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के

सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदने के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान

मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देखर सेथी सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार की स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले

100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों

में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ला देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछु दिन हुए हैं

ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे ख्र स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी

छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक

बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्र मा 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान के खरीदी हो जाएगी फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाकर रुख राजेश राज आईबीसी 24

रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे आवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि ही पार्टी अपन अपन सरकार के

ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के पिछले पा साल के भी बात नहीं है हम जो कहीं ना कहीं जो 15 साल

सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं वोमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती और प्रोत्साहित

हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत

मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा

हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक र से भागत र से ते मन अबला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर की कोशिश

करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा 27 लाख किसान जो

पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 400 हज करोड़ रुप हमन धान खरीद सरकार कर्ज ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुंचना

वर्तमान सरकार के फुटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में लक्ष कि र 135 लाख मिटिक न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर

क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लगते को योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा हो ज कांग्रेस सरकार

में जो 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो मो लागते कि भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं

आधा ही धान मन खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे य पूरा धान खरीद सि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जाथे नवीन जी वाकई में पाच साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम करे किसान बार ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिन तरले

आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो येका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव थे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला

के चार बार में देवती अभी ए मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि ला मन प्रावधान नहीं करे आप लोग बहुत अच्छा याद हुई कि मैं बतावा था कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो

हमन अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 ला हमन का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे किई हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार में खरीदी

हो सीधा भुगतान हो खतम ग एसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में य जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी रोक के रखी पाट पाट में और दूसरा तरफ अी कांग्रेस जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो

एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा कित जो बचे जोड़ के बजट प्रावधान का नहीं कर दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और

एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त ल दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हमन दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ देवन और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते और तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के रमन के

जो अंतिम तल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता करने की जरूरत नहीं सरकार की उवी पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूतना कपास जुला सलम लठ अरे मैं कहा तो

सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अनुपूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से त किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की

बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल सम बढ़ा दे तो जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था

के कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान लग एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि

पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घम खड़े हुए क ठीक है ठीक ठीक है जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप

लोग बताए कि 300 हम जोड़ के दे वो समय एमन कास पहला दूसरा तरफ अगर जान तो एमन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ हैब धान के खरीदी हो

जाक 20 क्विंटल खरीदी करे हम 2 क्विंटल खरीदी शुरू करे तो भा जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत तम दे [प्रशंसा] में [प्रशंसा] किनन किसान

उ उ किसान प देने टाम सर सरकार [प्रशंसा] पहद मिल सकते किसान सा नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा तब हम योजना बनाए योजना में भी नना च रख किसान म बोनस के नाम से दे है व ज को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे

कि कहां 40000 करोड़ का व्यवस्था को करे नहीं कर जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो

अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने है अब योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बाद तो जा तो मन अब अगर एक जगह बता कहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल

रखे रहे अरे भाई रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना कर बोन बोनस कसे अगर तु सरकार पनस कसे बोनस के ै दे रहे होर के बोनस क बाज गए बा बोनस अरे झूठ बोले पर कम ईमानदारी दिखा जोड़ दे बोनस कैसे बा प्रदेश के किसान म खा दे भारतीय जनता पार्टी

करता वादा घोषणा पत्रही बीजेपी क क दबाव प्रदेश दे लग किसान म किसान मगर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी हैरे आपके जिम्मेदारी भी हैरे हम सरकार वादा के सम दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा

नहीं न हम हर मामला में किसान के आग खड़े र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो गना भाई त 3100 धान की एक मुस्त पंचायत भवन न देबो अब कहा की योजना बना के देबो

मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बगल के सरकारी क 2500 दना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी में न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पोल खुल गए जब खुद खा उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब

नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी 3ओ ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप लोग का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढे

आधार में हम सरकार में ला अब जिम्मेदार तो हमन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम कि जोड़ के नहीं हम तो तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है तो न्याय नहीं करना न्याय योजना ढकोसला योजना

र और दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप लोग क कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी क देख भाई कि हम का डबल बना और डबल नहीं नहीं

लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक जो एकड़ जमीन है धान क्विंटल ब किसान बे खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला अगर दे तो 00 घन ह कांग्रे सरकार के हुई लेकिन आप

नहीं लगे की घोषणा पत्र में जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते र बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के कयान में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कि

भी अभी तक अटके हुए तो वो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर 00 की आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाहीर बादर तो बहुत लंबा हो योना तो बन ग घोषणा हो ग ना अब जो प्रावधान कर बजट के बजट [प्रशंसा] आही

मंल [प्रशंसा] ड मतलब हैन के पे में किन केमने आप निशाना सा कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास न 11 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी लेकिन का त निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन

आधा आबादी जने न कह कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अप आप फर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा मि देखो हमन किन बना नहीं हम किसान मन के त फिर कांग्रेस वोट मि चुनाव में के अ सारे कारण होते हैं किसान के भरपूर सहयोग

प्रदेश के किसान बन के मिले और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी

पड़ ना य आप कर पाते भ आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल

धान खरी डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डाले मजबूर कर ठीक है एक लास्ट

कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की की 300 र य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द अगर क डरे तो का चीज के विरोध कांग्रेस आदमी किन के बात काे आमी किन [प्रशंसा] बा

स पर दे पैसा रद मोद नरेंद्र मोदी जी मना कर ठीक आरोप प्रत्यारोप मा किसान तो हाथ 3 घोषणा कर हम तो हाथ जोड़ के मा किसान यही उमीद है जल् ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप

प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ अपन आप में एक रिकॉर्ड है गा फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई

है आप मला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आपन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नीतेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे

केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एक [संगीत] पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं अ धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत तक होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर कि भाजपा

बता थे कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवाए दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरले उमन किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना ही किय श्रेय के राजनीति क तक जाते पर आज पंती हम स चुके दोनों

ही इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूसरा धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पह रिपोर्ट देख बा चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आकड़ा 11 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के

इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे सर फायदा प्रदेश

की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हित सरकार के सति यह रिकॉर्ड बने हा धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले

100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों

में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में

वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सर का करें ख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़

सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के

31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24

रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे आवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जा कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार

के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी

हो जाते है और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो

एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक

के 24 तक के जो डबल करबो कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक रही से भागत र ते अब बोला ज्यादा

बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कहती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल

धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही देश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर दे से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद

सरकार कर्ज में ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की आगे पहुंचाना मा वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे हम लक्ष कि धर 135 लाख मिटिक टन धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान

से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मने 31 जनवरी के धान खे बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे

जाए तो मले से लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि न धान उत्पन्न कर सके तो

लागते की भार जनता पार्टी की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा न खरी पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा नवर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जीवा में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या

फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 300 र की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर

के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवती अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लो बहुत अच्छा याद हुई कि मैं बतावा की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम

अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हमन यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में

खरीदी हो सीधा भुगतान होई से खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के

साथ में जो अंतर के राशि अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के बोनस ला भी मन देबो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन लेकिन हमन का क हमर सरकार एक बात की

दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और जो बचे हुए जो अंतिम कित बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग 9 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई

लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा

की जो जो किसान न्याय योजना के इ करमन के जो अंतिम कि स्थल भी देवो तो ये प्रति एकड़ 9000 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान य साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता कर की जरूरत नहीं सरकार उरा कर रचना जी बोलते ना सूतना कपास जला

सलम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 10000 करोड़ के पूरक बट पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया य भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से

एक नवंबर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल बढ़ दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान दे

और न्याय योजना के चौथा कि के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था के च कि देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान लगके एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं

मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का घूम खड़े हुए जवाब देख रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो

खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया की 300 हम जोड़ के दे समय मन का पहला दूसरा तरफ अगर जा तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के म जैसे चार बार में हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ

हैब जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो अब हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत [प्रशंसा]

में किन अरे उन्नति योजना स सरकार [प्रशंसा] पद मि स किसान सा मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा त योजना बना योजना में भी ना च र किसान के नाम से दे है व ज को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ का व्यवस्था को

करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना

कहीं व लिए हम खुद अपन घोषणा उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत योजना बने हैं अब वो योजना में जो अभी प्रधान कर पैसा के र बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बता सवाल किसान कहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे

अरे भाई रखे रहे तो ला एमएसपी में जोड़ के दे कौन मना कर नरेंद्र मोदी नरेंद्र मोदी रो न बोनस बाम बोनस कैसे बागा अगर तु सरकार पैसा बोनस कैसे तो बोनस के तु पै दे रहे हो तो दर के बोनस क से बाज गए बा बोनस अरे

झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा तो पैसा बोनस जोड़ के दे के बोनस कैसे बाच ग अरे भैया वो दो दो साल केन पसे सरकार प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता अभी लन वादा घोषणा पत्र में रही से व वादा बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव प्रदेश में

बिल्कुल दे लगी किसान म किसान मर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी ह आपके जिम्मेदारी भी हर हम सरकार वादा के दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि

हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो त 3 धान की मु पंचायत भवन दे अब कहा योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बकेल के सरकारी क 25 दना अंगा

लगा काम करी हम मजबूरी में न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए जब खुद खा उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामना देता किसान मल जल्दी 3ओ ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप का क कि भाई हमन

उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं यह कहा कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हमला सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम दे ना लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता हू कांग्रेस

से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम कि स्ल का जोड़ के नहीं दे हम बोनस जोड़ के दे मैं जवाब देता तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है तो नय नहीं कर न्याय योजना ढकोसला योजना और दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज

मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी देख हम डबल बना ल नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 92 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब

करके बता एक एक जो एकड़ जमीन हैकर जो धान 2 क्विंटल बेची किसान बेचा र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 9 चाहे कांग्रेस सरकार के हो लेकिन आप लगे की घोषणा पत्र में जनत घोषणा होते से ही जनत वोट दे जाते बाद जनता कहीं ना कहीं

छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए तो व कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर 00 की आखिर कब

मिली अब जि तर आप बोला था योजना बनाए जाही बाद तो बहुत लंबा योजना तो बन घोषणा हो ग ना बट के [प्रशंसा] [प्रशंसा] ब एक मतलब है किक मन के पेट में तो अभी केमने भले आप निशाना सा कहना आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है इतिहास

लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का त निशाना साथ के आपने देख य तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ घोषित हो की किसान मन आधा आबादी न क क बीजेपी के संग ब जीत अब निशाना साथ के आपन फर किसान बना कोशिश कर लोकसभा फायदा मि देखो हम किन बना किसान

कांग्रेस के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र

मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़े ना य आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी

करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के सांग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला और

किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की कीय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द क रे [प्रशंसा] विरोध भा रद्र

मोद हाथ जोड़ मा किसान ठीक है ठीक है ठीक ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस के उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास आ

अपन आप एक रिकॉर्ड है गाव फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई है आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना

तेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास चे केंद्र है किसान फिर का रिकॉर्ड का होते सियासत कर आज की पंचायती एक पर [संगीत] छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

के ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर कि भाजपा बता थे कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवाए दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पाच साल के कार्यकाल में जिन तरले उमन किसान हितेश रही ने एकरे सेती ये बंपर खरीदी हुए

है अब देखना ही किय श्रे राजनीति कहा तक जाते पर आज पंती चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूसरा स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन जोहार है पहली रिपोर्ट बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी आकड़ा 11

लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी

करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के

सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीति घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती यह रिकॉर्ड

बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान सर्दी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ले देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा

सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बेल की सरकार है करे खरे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5

साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे

हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लक बना ही काबर के 31 जनरी तक धान की खरीदी होया है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर

देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही

जन देखे हवाओ और ये रिपोर्ट में साफ देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो

पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमन जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए पहली तो ओ भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से

जो योजना बने हैं वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाथे और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो

एक तरह से किसान मन ककर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक

के 24 तक के जो डबल करबो के रहे आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से और खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक रही से भागत र से ते मन अब

बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके और जी को पर्जन करे के कोशिश करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसाए ब एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान

हो गई और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही व प्रदेश के 25 लाख किसान जो पंजीकृत हो री से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000

करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष्य र आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे न लग

कि र 135 लाख मिट न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान खे बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए

जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो मसे लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके

भी शिकायत ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लागते की भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे आधा धान मन खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जाथे नवीन

जीक में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान बय ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिन तरले आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य उका नतीजा है देखो बात ऐसे

है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राश केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं

बतावा की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो ती हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे किई

हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान

नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी मन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं

कर और दो दो साल के बोनस ला भी मन देवो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन व नहीं लेकिन हमन का क हमर सरकार एक बात की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र तल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है ल देबो बाजू

हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है दे बता कर तो ऐसे है हम तो लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो यह 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे हम दो साल के बोनस भी दे

फि के राशि भी बढ़ देवन और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा की जो जो किसान न्याय योजना के इ करमन के जो अंतिम कि स्थल भी देवो तो ये प्रति एकड़ 0 हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान य साल

भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता कर की जरूरत नहीं आप सरकार की उपलब्ध नवीन पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूतना कपास जुला लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 10000 करोड़ पूरक बट पूरक बजट ले कौन जगह धान खरीदी पैसा दे

राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया य भूपेश बलज सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से एक नवंबर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के अडर वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक

क्टल बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ले देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल

के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का े जवाब न देखो ऐसे

है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे व समय मन का पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे

हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जा 20 क्विंटल खरीदी करे हम क्टल खरीदी शुरू कर तो जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले बाद जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो हम किसान उन्नति योजना [प्रशंसा]

में किने [प्रशंसा] सरकार नरेंद्र मोदी जीना बनाना में किसान मल बोनस के नाम से दे है व जम को नहीं दे मैं कहा था तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 400 हज करोड़ के व्यवस्था को करे नवीन जी ये सवाल ये सवाल किसान मन

के मन में त हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप का भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवान वो अलग है तो कहीं ना कहीं व जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किसान

उन्नति योजना जो बनाए अंतर्गत योजना बने अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बता हमन कहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रखे रहे अरे भाई रखे रहे तो ला एसपी में जोड़ के का दे कौन मना कर 2018 में 300

जोम बोनस कैसे अगर तु सरकार बोनस कसे बोनस केब तु प दे रहे होर के बोनस बा ग बा बोनस अरे झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा [प्रशंसा] प्रदेश के किसान म खा दे भारतीय जनता पार्टी करता घोषणा पत्र बीजेपी क प्रदेश बिल्कुल दे लगी

किसान किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा प किसान के साथ धोखा नहीं हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देब तो पकड़ में तो

3 धान की मु पंचायत भवन दे अब कहा योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमरा कर काम कर काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर भप सरकार काम कर हम मजबूरी योजना बनाए चार कि पैसा दे खुल ुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे

शुभकामना किसान म जल्दी ठीक है त रना जी आप हम उन्नति योजना बनाए हमन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े र आधार में हमला सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम

देना लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तोला सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम कि स्ल का जोड़ के नहीं दे जवाब दे तो बोन जोड़ के देब किसान के साथ अन्याय करना हैन नहीं कर नय योजना ला

योना दूसरा चीज धनज जी दूसरा चीज आप हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी के राश और आज के हिसाब से एसपी रा देख हम डबल बनाएगा और डेवल नहीं नहीं ओका लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900

2520 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 घोषणा आप मन के हवाए चाहे कांग्रेस

सरकार के होई लेकिन आपन नहीं लगे कि घोषणा पत्र में जन तरले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के

चाहे वो बोनस की राशि के होए देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर थे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए

जाही र बाद होकर तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए है ना हम भा जो प्रावधान करे बजट के बजट [प्रशंसा] आही होल जो डर हम [प्रशंसा] कर [प्रशंसा] निशाना सा साल के कार्यकाल की उपलब्धि न लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का तर निशाना

साथ के आप देखो य तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी न क कह बीजेपी के संग ब जीत अब निशाना साथ के आपन किसान बना कोश कर लोकसभा फायदा देखो हम किन किसान कांग्रेस वोट के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम

किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र

मोदी जी दे किसान की आमनी पड़े ना य आप कर पा भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होथ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम माथ की योजना का पैसा द पर किसान डर तो जारी करके बताओ भाई समझ

में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी कर हो ना हम सरकार 20 क्टल कर से व 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए वादा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा

मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य सबदम की य हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द ची विरोध [प्रशंसा] कर स रद्र मोद हाथ जोड़ के मा किसान है ठीक है

ठीक ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस की उपलब्धि आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मला

मोर प्रणाम है बधाई है आप स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक

नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक पर [संगीत] छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर

सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर कि भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही ने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना हो श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज

पंती चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस करा हम संग बीजेपी के नेता नवीन मार्क जी जुड़े ह दूसरा स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बा चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीद के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के

इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए ये आंकड़ा अभी औ बाढ़ ी कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार ₹1 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर ले धान खरीदने के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के ऐसे में कहे जा सकते हैं घर फायदा प्रदेश

की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ ये रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही

है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए

मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ले देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि

भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे ति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में

सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के

सर्वोच्च कीर्तिमान लक बना ही काबर के 31 ज तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए है ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ले ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाकर रुकी

राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे आओ और य ट साफ त देखे जाते कि दोनों

ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हम जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता तो मा कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं वमा निरंतर बढ़ोतरी

हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो

एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक

के 24 तक के जो डबल करबो के रहे आ जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बचक ही से भागत ते म अला ज्यादा बेहतर ढंग से

अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थे य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक

किसान खरीदी जाही और प्रदेश के 25 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद

सरकार कर्ज ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की र आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे न लक्ष कि र 135 लाख मिट न धान की

खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले

जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 2800 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं अभ 83 किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रो शिकायत आ ताकि धान री धान

उत्पन्न कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिनत कांग्रेस काम

कर किसान बय ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आप की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नतीजा है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव थे दूसरा तरफ है कि

जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवती अभी ए मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय

कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राश वो 00 ला हमन का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हमन यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए

सोचे 00 जोड़ के दे हैं और ओकर आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान होई से र खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट

में दी और दूसरा तरफ अभी मन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के

बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त देर बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि

है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ

है किय जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम की स्थल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता कर ज सरकार

देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जला लम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक ब पूरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसा दे राशि लेखा बता तो 400 करोड़ रुपया य भूपेश बगल जी सरकारी से किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा लेरी से

बारदाना की व्यवस्था कर से एक नवंबर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के डर वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के

चौथा किस्त के जो पैसा रखा र स भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा किस्त देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोनो नहीं

मिल पाए अभी सीधा-सीधा सूरत बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान पंचायत का खड़े हुए वि जीन ठीक है जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात होई से तो मैं आप लोग बताए कि 300 हम जोड़ के दे वो समय ए मन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द हम किसान उन्नति

योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद लेर बाद य जब खरीदी कंप्लीट

हो जा तो हम किसान उन्नति योना के अत ी पेट [प्रशंसा] में देने टा सर [प्रशंसा] सरकार नरेंद्र मोदी योना बनाना में किसान म बोनस के नाम से दे सरकार के ब दिखा देहा 400 करोड़ सवाल किसान मन के मन ह रही वो कब तक पूरा हो देखि रचना जी

आप एमएसपी अपन आप में अलग है और जो अंतर के राशि दे अलग है क ना क हम एक सवाल जयोना योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जाही तो मन अब अगर एक जगह बताहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख

रहे अरे भाई रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ केन मना कर अरे भाई 2018 में हमन 300 जो जोड़ के दे रहे बाज जब तुम दे बोनस कैसे बागा अगर तु सरकार पैसा ला तो बोनस कैसे बा तो बोनस क के जब तुम पैसा ले दे

रहे हो तो द बर के बोनस कहां से बाच गए कहां बा दर बोनस अरे झूठ बोले पर कम से ईमानदारी दिखा तोड़ [प्रशंसा] साल प्रदेश के किसान मला धोखा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता अभदा घोषणा पत्र में ही वादा बीजेपी क दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लगी किसान

म किसान मर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी हैरे आपके जिम्मेदारी भीर हम सरकार वादा दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश

देबो तो पकड़ में तो गना भाई त 31 धान की एक मुत पंचायत भव देबो अब कहा योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम कर ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकारी क 25 ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी में योजना बनाए चार

कि पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से

लेकिन मैं यह कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हमला सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम कि स्ल

का जोड़ के नहीं बोन जोड़ के दे तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है तो न्याय नहीं करना न्याय योजना ढकोसला योजना और दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप क कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप

14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम डबल बना गया और डेबल नहीं नहीं ओका लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 2500 920 एक्स्ट्रा व जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बताऊ एक

एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 में जा ची कर नहीं पा चाहे घोषणा आप मन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन

आपन नहीं लगा कि घोषणा पत्र में जन तरले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की

राशि के होए देखो अब चौथा कित भी अभी तक अटके हुए है तो वो कर सति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही र बाद करर ई

तो बहुत लंबा हो योजना तो बन गए घोषणा हो गए ना [प्रशंसा] हम [प्रशंसा] केमने निशाना साल के कार्यकाल की उपलब्ध जिन इतिहास एक नवा रचे 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी हो लेकिन का य तरह निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के

साथ ही घोषित हो ग र से कि किसान मन अ आधा आबादी जिने न कह ना कहू बीजेपी के संग बंपर जीतन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आप मिल देखो हमन किन बना

नहीं किसान मन के त तो फिर कांग तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं मिले इसके साथ चुनाव में हाजीर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं म किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले हु और जीत हार के

कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़े ना यहां आप कर पाते हो भाई आप

आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते है आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार

3 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता

धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द कीय हम जाना था लेकिन भाई ये दोनों शब्द [प्रशंसा] वि स मांगना कारद मोद नरेंद्र मोदी जी म ठीक आरोप प्रत्यारोप किन घ कर हम तो हाथ जोड़ के मा किसान ठीक है

ठीक ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मला मोर

प्रणाम है बधाई आप आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र र आज तो प्रदेश एक नवा

इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक पर [संगीत] छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर

सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर कि भाजपा बता थे कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवाय दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही ने एक सेती ये बंपर खरीदी हुए है अब देखना होही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते एक

ऊपर आज पंचायती पना हम जड़ चुके दोनों ही प इंट्रोड्यूस करा दे हमर संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े ह दूसरा हमा स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा

111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ी काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के सर्वो है ऐसे में कहे जा सकते र फायदा

प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही

है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए

मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ल देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि

भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में व श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बगेल की सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे

देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक

के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी ईया है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टलने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके

रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्ति मान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे हवाओ और यह रिपोर्ट में साफ तौर

में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहली आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार है ओकर जो नीति है वो

पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और

निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 रप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है

वो 20 जब बढ़ से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक

के 24 तक के जो डबल करबो कह रहे जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साहित रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती ला बीचक से भागत ते अबला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा

ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश करथ ठीक धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति किसान से खरीद जाही

और प्रदेश के सा लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 400 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कजम लेरी से तो अभी जो धान

खरीद के लक्ष आगे पहुचा वर्तमान सरकार के फुटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे हम लक्ष कि र 135 लाख मिटन न की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात

कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करही लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ

धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 2800 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लगते की भ जनता पार्टी की ज आने वाले

समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आही धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जाथे नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान भ ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के

वचन पत्र में जिनत आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा है देख बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी की राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है की जो अंतर के राश

देना है ते झुला झुला के चार बार में देवती अभी मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद ई कि मैं बतावा की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो

हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हमन का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हमन ये नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे र आधार

में खरीदी हो सीधा भुगतान होई सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो

सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के रा अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के कालिए बजट प्रावधान का नहीं कर दो दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन लेकिन हमन

हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अतिम कि तो देर बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई

लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो

जो किसान न्याय योजना के कमन के जो अंतिम की स्ल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान एक साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी लिए चिंता कर स देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूतना कपास

जला लम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक बट पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो 40000 करोड़ रुपया य भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से

एक नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के चौथा

किस्त के जो पैसा रखा भूप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोन नहीं मिल पाए

अभी सीधा सधा सरता बतातु मला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का खड़े हुए जी न ठीक जवाब नवीन देखो ऐसे है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो

खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताए हो कि 300 हम जोड़ के दे उस समयन का पहला दूसरा तरफ अगर जान तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के जैसे चार बार में द हम किसान उन्नति योजना बना के

हम एक मु दूसरा तरफ है कि जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट

हो जा तो हम किसान उ योजना के अत [प्रशंसा] में किसान पने टा स [प्रशंसा] सरकार नरेंद्र मोद योना बनाना में ब देव साय किसान म बोनस के नाम से दे है व ज को नहीं दे मैं क तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के वस्था को

करन जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा होई देखिए रचना जी मैं आप लोग भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना

कहीं व लिए हम अपन घोष में किसान उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के र बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बता न कहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख

रहे अरे भाई रखे रहे एमएसपी में जोड़ के कौन मना करर मोदी ननसे तु सरकार बोनस रहे हो बोनस बोनस झूठ बोले कम मानदार दि [प्रशंसा] सा प्रदेश के किसान म खा दे भारतीय जनता पार्टी कर घोषणा पत्र बी कहीं ना कहीं दबाव प्रदेश में

बिल्कुल दे ल किसान किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा किसान के साथ धोखा नहीं हम हर मामला किसान के ड़ लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था हम अंतर के राश दे तो पकड़

में धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किन गुमरा कर काम करना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर भूपेश बल के सरकारी 25 अंगा लगा काम कर हम मजबूरी योजना बना चार किसम पैसा दे पल खुल ग खुद उन्नति योजना के माध्यम से दे मतलब

नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप क कि भा हम उन्नति योजना बनाए हम घोषणा पत्र में उ योजना माध्यम से देबो लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े होकर आधार

में हमला सरकार में लाए अब हम जिम्मेदार है तो हम देना लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम कित का जोड़ के नहीं जोड़ मैं जवाब देता हूं किसान के साथ अन्याय करना है कर न योजना

ला योजना दूसरा चीज धनज जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राश देख कि हमन का डबल बना और

डबल ही नहीं ओ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 220 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के देथा तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो

00 देख चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आपन नहीं लगा कि घोषणा पत्र में जन तले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते उर बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे

वो शराबबंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा किट भी अभी तक अटके हुए है तो वोकर स्थिति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथ 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए

जाही उकर बाद करर हुई तो बहुत लंबा हो योजना तो बन ग घोष हो अब जो प्रावधान करे बजट के बजट आही [प्रशंसा] डर हो मंल जो डर हम कर [प्रशंसा] सामने निशाना सा साल के काल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवार 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी

लेकिन का एक तर निशाना साथ के आप देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग से की किसान मन आधा आबादी जने न कह ना कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन आप फेर किसान बना कोशिश करता

लोकसभा में एक फायदा मि देखो हम किन बना नहीं किसान मन के त तो फ फिर कांग्रेस वोट देखो चुनाव में हाजीर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं म किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हु और जीत हार

के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान के आमनी पड़े ना यहां आप कर पाते हो

भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी कर हो ना

कांग्रेस पार्टी किन हु बारबार याला और किसान मन के खाता में पैसा ा मजबूर कर ठीक एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 2 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तर जाना लेकिन दोनों [प्रशंसा] वि स नरेंद्र मोद हाथ जोड़ मामी जल्द

जल् है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप में एक इतिहास

अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई आपला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार [संगीत] जय जोहार आप दे आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान

हमेशा ही केंद्र में र आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज के पंचायती एक पर [संगीत] छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठत हवा काबर की भाजपा बताते कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवाई दूसरा धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान हितेश रने एक सेती यह बंपर खरीद

अब देखना होही श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पं चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम संग बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दस स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़ दोनों जन जोहार है पहली रिपोर्ट देख बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा

111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ मात्रा घलो अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते र

फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही

है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में

इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के

कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सब ज्यादा कीमत देके काम उपेश बघेल की सरकार है करे िति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे

देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक

के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए है ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाक रुकी राजेश राज आईबीसी 24

रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही देखे हवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन

सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमार किसान केंद्रित नीति ही वही नीति है आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय

बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हम मोदी सरकार जो शुरू

में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे जो लागत

मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे होकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत से ते अब बोला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर की कोशिश

करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाय एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो

चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कजम लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष के आगे पहुचा ना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान

नहीं है एक कारण बता ह आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि र 135 लाख न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर

क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस

सरकार में जो 27 28 मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आते ताकि धान खरीद में धान उत्पन्न कर सके तो मो लगते की भारती जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे

हैं र आधा ही धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे र पूरा स धान खरीद सि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जा नवीन जी वाकई में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम करे किसान ब ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 00

की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो न देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी की राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार

में देवा अभी ए मनहा ला जो अंतिम किस तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बताता कि जब 2018 में हमार सरकार है जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राश

जो बोनस के जो राशि व 00 ला हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे औरक आधार में खरीदी हो

सीधा भुगतान होई से खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार रही से तो

एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के कालिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो साल के बोनस ला भी मन देबो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार

बत कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे जो अंतिम किस्त है ल देर बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 900 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर

देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभ जाही कैसे के हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है किय जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो

जो किसान न्याय योजना के करमन के जो अंतिम किल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान य साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर की जरूरत पू पूरा देखो ऐसे है रचना जी बोलते

ना सूत ना कपा जुला लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद तो मात्र 10000 करोड़ के पूरक बजट पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो मा 40000 करोड़ रुपया ये भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी

से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी बात करें 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना री जाना चाहिए लाख टन जाना चाहिए किसान दे और न्याय योजना के चौथा कि के पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था चौथा कि

देना है न दे चु ने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो को मिले को नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुम तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के

पैसे 00 एक मु नगदी भुगतान आज किसान तो पंचायत का खड़े ठीक जवाब देख ऐसे है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया की 300 हम जोड़ के दे व समयन पहला दूसरा तरफ अगर जान तो मन जब

सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है कि ज जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो

खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है वो किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो हम किसान उन्नति योजना के अंतर्गत [प्रशंसा] में ले न के पैसा दे किसान उ किसान उ पैसा देने वा टाइम लैसे हम सरकार सुन सरकार पद्र [प्रशंसा]

मोद मि सते किसान सा मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा तब हम न योजना बना योजना में भी नना च र किसान म बोनस के नाम से दे सरकार के ब दिखा दे क 400 करोड़ सवाल किसान मन के मन ह रही वो कब तक पूरा हो देखि रचना जी

आप एमएसपी अपन आप में अलग है और जो अंतर के राशि देव अलग है ना कहीं हम खुद अपन घोष उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने अब योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जाही तो मन अब अगर एक जगह

बतान कहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे भाई रखे रहे तोला एमएसपी में जोड़ के का कौन मना कर रहे तुम बोनस बा तुम बोनस कैसे बा अगर तुम सरकार पैसा बोनस कैसे बोनस कहां के जब तुम पै दे रहे हो तोर के बोनस बा ग बा बोनस

अरे झूठ बोले कम ईमानदारी दि तो [प्रशंसा] प्रदेश के किसान म भारतीय जनता पार्टी घोषणा पत्र बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान म किसान मर आप वादा करे ह 3 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा दे प किसान

के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देब तो पकड़ में तो 3 धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किन गुमराह कर काम

करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बकेल के सरकारी क 2500 द ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी न योजना बनाए चार किसम पैसा देन और के पोल खुल गए जब खुद खा उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं

शुभकामनाए देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात ऐ रचना जी मैं आप लोग का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए ना हमन अपन घोषणा पत्र में क उन्नति योजना हम घष पत्र घ आधार में हम सरकार में लामेद तोन बात एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि

भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम कील जोड़ नहीं लेकिन ते का नहीं दे मतलब है तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है तोला न्याय नहीं करना न्याय योजना ढकोसला योजना और दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा चीज

मैं आप लोग कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम का डबल बना और डबल ही नहीं ओ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900

220 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के देथा तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 नवीन जी आप आप देखो मन कर नहीं देख

चाहे घोषणा आप मन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आप मन नहीं लगे कि घोषणा पत्र में जनत घोषणा होते र सेती ही जनत ले वोट दे जाते उर बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो

शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो गए देखो अब चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है तो वोक स्थिति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथे 00 की आखिर कब मिली

अब जिन तरह ले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद होकर क हुई तो बहुत लंबा हो के घोषणा हो ग ना अब जो प्रावधान करे बजट के व बजट आही खमता डर जारी हो मंल जो डर हम कर [प्रशंसा] में कार्यकाल की उपलब्धि इतिहास एक न लाख

टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का निशाना साथ के आपने देखो य तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी न क कह बीजेपी के स ब अब निशाना साथ के आप किसान बना कोशिश कर लोकसभा फायदा देखो हम बना

किसान ब वोट नहीं मिले इसके सा देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई

किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पाए किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पाथ भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर

हम माथन की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरी कर ड जारी करे ना हम सरकार 20 क्विंटल कर व 3100 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान

के संग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डाल मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की

00 य हम जाना था लेकिन भाई दोनों शद [प्रशंसा] विरोध सर कव पर र मांगना नरेंद्र मोदी जी प्र हाथ जोड़ के मा किसान यही उम्मीद है कि जल्द जल्द की दिन न मि ठीक है ठीक है ठीक ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप

प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप एक इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई आपला आप दोनों पहुना मन भी जोहार [संगीत]

जय जोहार आपन देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में रथ और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है और ओक केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते

सियासत करबो आज की पंचायती एकरे पर [संगीत] छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ का की भाजपा बताते कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा

धार कांग्रेस बताते किर पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते रने एक ब पर खरीदी हुए है अब देखना होही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते एकपर आज पंचायती ज चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हमर संगमा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे

जी जुड़े दूस हम स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देखर बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए

है एक और रिकर्ड यसो बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर य कीर्ति मला लेकर श्रे के

राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर रहे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती ये रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना

काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रेय कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा

कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है करे ति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी

पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश में

40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए

है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आप दोनों ही जन देखे हवा और यह रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं

पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी

हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं

920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन ककर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार

2014 के रिकॉर्ड ला व समय से लेके आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो कह रहे हैं आए जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे ओकर कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती

लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत र ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से ती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर की कोशिश करथ ठीक धनंजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बसाय एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा

पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार दौरान हो ग 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़

रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष्य आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि र 35 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई 27 लाख

किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाया जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे

जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 283 किसान धान बेचे मजबूर कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान

खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लागते की भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आधा ही धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे र पूरा धान खरीद सि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जा है नवीन जीक में पा

साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान ब ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बा कर नजा देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव दूसरा

तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी मनहा ला जो अंतिम किस तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद ई कि मैं बता की जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम

के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हमना का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में

खरीदी हो सीधा भुगतान हो सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार रही

से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के बोनस ला भी मन देबो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन व नहीं

लेकिन हमन का हमर सरकार एक बार कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल दे और एक बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोल देबो र बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि

है उ देके बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देवा और दूसरे तरफ

है कि ये जो एमएसपी के राश भी जाते अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के इ कमन के जो अंतिम कि स्थल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान य साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर की जरूरत सरकार

देखो ऐसे है रचना जी य बोलते ना सूतना कपास जलाह लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो मा 40000 करोड़ रुपया

यह भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से एक नवंबर से खरीदी की बात करें 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान रीी हो अब एक क्विटल बढ़ दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना

140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से

किसान अलग एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसा 00 एक मु भगतान हुई आज किसान तो पंचायत खड़े हु जवाब देखो ऐसे

है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे जो बात होई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे समयन का पहला दूसरा तरफ अगर जान तो म जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार

बार में द सवे हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है कि जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद लेर बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खम दे अभी में [प्रशंसा] बता ले न के पैसा दे किसान किसान पैसा देने वा टाइम लगा जैसे सरकार सु सरकार पद्र [प्रशंसा] मद किसान मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा त योजना बना योजना में

भी रखे य किसान म बोनस के नाम से दे व ज को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे कि कहा 400 करोड़ के वस्था को करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही वो कब तक पूरा

हो देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष उन योजना जो बनाए अंतर्गत जा योजना बने है अब योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा तो अब

अगर एक जगह बताहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना कर नस बाब तुम बोनस कैसे बागा अगर तु सरकार बोनस कैसे तो बोनस केब तुम पै दे रहे होर के बोनस बा ग बोनस अरे झूठ बोले पर कम ईमानदारी दिखा [प्रशंसा]

साल प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी घोषणा पत्रही से वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लगी किसान म किसान मर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी हर आपके जिम्मेदारी भी हर हमरो

सरकार वादा के दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो गना भाई त 31 धान की एक मुत पंचायत भवन का

न देबो अब कहा योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बकेल के सरकारी क 2500 ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी न्या योजना बनाए चार किसम पैसा दे और के पोल खुल गए जब खुद खा की

उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात ऐ रचना जी मैं आप क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए ना हमन अपन घोषणा पत्र में के उन्नति माम से लेकिन मैं यह कहा जब हम घोषणा पत्र

किसान घोषणा पत्र पढे आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम देन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम स्ल का जोड़ के नहींन जोड़ मैं जवाब देता

हूं किसान के साथ अन्याय करना हैय नहीं कर न्याय योजना ला योजना दूसरा चीज है धनंजय जी दूसरा जी मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि भाई लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 144 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से

एमएसपी देख भाई कि हमने का डबल बना और डेबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 2520 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के देन तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे

ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 जी देखो देखो चाहे घोषणा आप मन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप मन नहीं लगे की घोषणा पत्र में जिन तले घोषणा होते र सेती ही जन तले वोट दे जाते उर बाद जनता

ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते

तो जनता अब अगोरा करथ 3100 की कि आखिर कब मिली अब जिन तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद होकर ई तो बहुत लंबा हो बन घ हो प्रावधान कर बट के [प्रशंसा] बडर [प्रशंसा] [प्रशंसा] में के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि हैन

इतिहास एक नवार 11 लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी ज न क क बीजेपी के संग बप जीत अब निशाना साथ के

आपन अप आप फर किसान बना कोशिश कर लोकसभा में फायदा देखो हम बना किसान मन कांग्रेस वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजिर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले है और जीत हार के कारण कई सारे

उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़े ना यहां आप कर पाथ भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी

होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल न ड जारी कर सरकार कर 3 दम नहीं ख कारण आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर

काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ शद जाना दोनों श [प्रशंसा] विरोध में

ी भा कर सरकार छ क परर मांगना रेंद्र मोदी जी आरोप प्र ठीक है यही उम्मीद है कि जल्द जल्द की ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक

नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले जादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फेर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई है आप आप दोनों पहुना मन के भी जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख बा आईबीसी 24 पंच मा आप

मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र थे और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है अब ओक केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करबो आज के पंचायती एक के [संगीत]

ऊपर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ था काबर कि भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उर पा

साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही ने एक य बंपर खरीदी हु अब देखना ही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पं चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम समा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूसरा स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोन जन

के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बा चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुई यह आंकड़ा अभी औ बाढ़

ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति

एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेक श्रे के राजनीति घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार

भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो

गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस

के नेता यह उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कसे दे सकते सबने ज्यादा कीमत दे के काम उपेश बघेल की सरकार है करे रे

स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने

हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है व जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी ईया है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के

उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई कि एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है

लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी नंद जी आपन दोनों ही जन देखे और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं

पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर

किसान केंद्रित नीति ही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने है व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो य समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ

थे कि कहीं ना कहीं 920 रप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राश व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके तो आप देखो कि हमार

2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे आ जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती

लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से ती करके लाभ लेकर को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक नज जी देखो अभी जो दन खरीदी प्रदेश में चला थ धान खरीदी में धान बसाय पर एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती

कांग्रेस सरकार दौरान से और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीद जाही और प्रदेश के साडे लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हम

धान खरीद सरकार कर्ज लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुचा वर्तमान सरकार के फुटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि 135 लाख मिट टन धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल

के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते कि कोई

योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 2800 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं अभ 83 किसान धान ब मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो मो लगते की भ जनता

पार्टी की जो आने वाले सम ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आधा ही धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे र पूरा से धान ि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जा नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान भय

ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत आपन 00 की बात करे हो 21 कुंटल प्रति एकड़ के बात करे हो ये उका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी की राशि केंद्र सरकार के देवते दूसरा तरफ

है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देवते अभी ए मनहा ला जो अंतिम किस्त तक राशि ले प्रावधान नहीं करी आप लोग बहुत अच्छा याद ई कि मैं बतावा था कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और

उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 ला हमना का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि भा हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के

लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो सेर खतम ग से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में य जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी पाट पाट

में द और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के कालिए बजट प्रावधान का कर और दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ

बोल के वोट ले रही लेकिन लेकिन हमन का हमर सरकार दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोल देब र बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 9 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर

तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे हम दो साल के बोनस भी भी देह फिर य दे अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे

तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते है अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के इ कमन के जो अंतिम किस तल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता करने की जरूरत

नहीं देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूत ना कपास जलाह लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान खरीदी पैसा दे राशि लेखा बता तो मा 40000 करोड़ रुपया यह

भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मि धान खरीदी होना है अब एक क्टल बढ़ दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख

मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 23 किसान दे और न्याय योजना के चौथा कि पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल

के बोनस दे हो को मिले को नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुम तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का खड़े हुए वि जब देखो ऐसे

है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात होई से तो मैं आप लोग बताया 300 हम जोड़ के दे समय पहला दूसरा तरफ जा तो म जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार

बार में द स हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व

किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट हो जा किन उ [प्रशंसा] योना जी लेके न के पैसा दे किसान उ किसान उ पैसा देने वा टाइमल जैसे हम सरकार सुन सरकार पहद [प्रशंसा] मोद मि सते किसान साथ नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न योजना बना योजना

में भी चौथा कि रख य किसान म बोनस के नाम से दे व ज को नहीं दे मैं क सरकार के बजट दिखा दे कहा 400 करोड़ वस्था को करे सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की के जन वादा रही से वो कब तक पूरा

हो देखिए रचना जी मैं आप भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है लिए हम खुद अपन घोष में किन उन्नति योजना जो बनाए अंतर्गत जा योजना बने है योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा तो अब अगर एक जगह

बताहा किसान न्याय योजना के अंतिम कील रख रहे अरे भाई रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के का कौ मना कर [प्रशंसा] सरन लेनदार [प्रशंसा] प्रदेश के किसान मतीन पार्टी पत्र रही वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे लगी

किसान किसान मर आप वादा करे ह 31 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी ह हम सरकार वादा दे पैसा किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो

तो पकड़ में तो गना भाई त 31 धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम करे हो ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बगल के सरकारी कट 2500 ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी में न योजना बनाए

चार किसम पैसा देन और के पोल खुल गए जब खुद का उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामनाए देता किसान म जल्दी दो ठीक है ठीक है बात ऐसे रचना जी मैं आप लोग का क कि भाई हमन उन्नति योजना बनाए हैं ना हमन

अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तोला सरकार

में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम की स्ल का जोड़ के नहीं जोड़ के जो है किसान के साथ अन्याय करना है कर न योजना योजना दूसरा चीज धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है कि लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 2014

के एमएसपी की राशि आज के हिसाब से एमएसपी क्ला देखा भाई कि हमने का डबल बना और डेबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 2520 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बताऊ एक एक जो एकड़ जमीन है र

जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 में जागा चीज कर चाहे घोषणा आपन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आपल घोषणा पत्र घोषणा होते सेती ही जले वोट दे जाते उकर

बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो करति कहीं ना कहीं

जनता ला परेशानी होते है तो जनता अब अगोरा कर थे 00 के आखिर कब मिली अब जि तर आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद करर तो योजना तो बन के घोषणा हो ग है ना अब जो प्रावधान करे बजट के व बजट आही तो बता डर जारी हो

ग ना तो मंत्रालय रडर ो जो डर हम करे डर [प्रशंसा] [प्रशंसा] में कहना कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवाचे 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा

के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी जने न कह ना कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन आप फेर किसान बना कोशिश करता लोकसभा फायदा मि देखो हम बना किसान मन र तो फिर कांग्रेस

का वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं म किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले हु और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100

धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़े ना यहां आप कर पाथ भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मांथ की

योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते 2 क्विंटल धान खरी डर जारी करे ना हम सरकार 20 क्विंटल कर व 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वा

बारबार याद दिलाब और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर करबो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की य हम जाना था लेकिन दोन कामी किन [प्रशंसा] बा स रदद

प्र ठीक है ठीक है यही उम्मीद है कि जल्द जल्द ₹ की जन मिले ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है ठीक ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे य कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान

आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप माय एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई है आप कर स आप दोनों पहुना मन के भी जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंच मा आप मन

के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे ओ केंद्र है किसान फिर काहे रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत कर आज के पं एकरे ऊ [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा

110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बताते कि ये उकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उर पा साल के कार्यकाल में जिन तरमन किसान हितेश रही

सेय बंपर खरीदी हु अब देखना ही श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पं चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दस स धनंजय सिंह ठाकुर जुड़े दोन जन जोहार है पहली रिपोर्ट दे बा चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर

नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुई यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 3100 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए हैं एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के

सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिसी सरकार के स्थिति यह

रिकॉर्ड बने हा धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ल देव कांग्रेस के

राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम उपेश बघेल की सरकार करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5

साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे

हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वच तिमान लोक बना काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी ई है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएगी फिर देखना

होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धन जी आपन दोनों ही जन

देखे और यह रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो

पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर किसान केंद्रित नीति ही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप

से जो योजना बने है व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर की जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला और वो समय से लेकर आज

तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे व कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक र से

भागत र से तेला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से ती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश करथ ठीक है धनंजय जी देखो अभी जो दान खरीदी प्रदेश में चला थ य धान खरीदी में धान बिसाय पर एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग

से और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत हो र से बारदाना के व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसे के व्यवस्था कांग्रेस सरकार करदर से लगभग 0000 करोड़

रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्ज ले री से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष्य के आगे पहुंचा नामा वर्तमान सरकार के फुटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लक्ष कि इधर 135 लाख मिटिक टन धान के

खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात करें तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले

जाए और 3100 दे जाए तो म लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिल नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान

उत्पन्न कर सके तो मो लगते की भ जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आही धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ र पूरा धान ि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले

कांग्रेस काम कर किसान भय ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जनत आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो यका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र

सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है तो झुला झुला के चार बार में देवते अभी मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि म प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा था कि जब 201 में हमार

सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के आधार में खरीदी सीधा भुगतान हो तमस साथ साथ लेकिन

आज के डेट में जो पा साल कांग्रेस चला से तो सीधा भुगतान नहीं कर रख पाट पाट में और दूसरा तरफ अभी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे

जोड़ केलिए बजट प्रधान का नहीं कर और दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के वोट ले र लेकिन लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल जो बचे हुए जो अंतिम किस्त बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 9 20 से ऊपर के

जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे ब कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तोय 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे हम दो साल के बोनस भी दे हैं फिर य

दे अंतर के राशि भी बढ़ा देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते है अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के कमन के जो अंतिम कि स्ल भी देबो तो ये प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल

भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता करने की जरूरत नहीं सरकार पूरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूत ना कपास जला हम लम लठ अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद ते मात्र 00 करोड़ के पूरक बजट अ पूरक बजट ले व कौन जगह धान

खरीदी पैसा दे राशि लेखा है बता तो मा 40000 करोड़ रुपया यह भूपेश बगेल जी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना के व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर दी वो हिसाब से 135 लाख मेट्रिक

टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल सम बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा

मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत

का खड़े हुए न नहीं ठीक जवाब नवीन देखो ऐसे है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताए की 300 हम जोड़ के दे उस समयन पहला दूसरा तरफ अगर जा तो मन जब

सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जाक 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो

खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी कंप्लीट [प्रशंसा] हम क्या भाई बण साय जी 3 लेके धान के पैसा दे किसान कर दे पैसा उ योना उन्नति किसान वसे उर पैसा देने वा टाइम लगा जैसे हमार सरकार सुनना हमार सरकार ना पहले

मुद्र मोद प मिल सकते किसान साथ नहीं मिल सकता ये नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए नय योजना में भी न्या योजना भी चौथा कि रखे य किसान मला बोनस के नाम से दे है व ज को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के

बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ का व्यवस्था को करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन म त हवाई की 31 के जन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप लोग का क हो भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो

अंतर के राशि देव वो अलग है ठीक कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष में किसान उन्नति योजना जो बनाए अंतर्गत जा योजना बने है योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा अब अगर एक जगह बताहा किसान न्याय योजना के अंतिम स्ल रख

रहे अरे भाई रखे रहे तो एमएसपी में जोड़ के मना कर सरकार बोनस [प्रशंसा] नस नदी [प्रशंसा] के किसान म भारतीय जनता पार्टी घोषणा पत्र में रही से वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लगी किसान म किसान मर आप वादा

करे ह 3 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी ह आपके जिम्मेदारी भी ह हम सरकार वादा के सम दे पैसा भाई किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि

हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो भा त 3 धान की एक मुत पंचायत भवन न दे अब कहा योजना बना मतलब प्रदेश किसान गुमरा कर काम कर यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर भूपेश बल के सरकारी अंग लगा काम कर हम मजबूरी योजना

बना चार कि पैसा दे प खुल ग खुद उन्नति योजना के माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप कि भा हम उन्नति योजना बनाए हमन घोषणा त्र उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये

कहा कि जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढे आधार में सरकार में ला हम जिम्मेदार तो हम देन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोसर मिली से अंतिम जवाब देता जोड़ जो किसान के साथ अन्याय करना है नय नहीं करन योजना

योजना दूसरा चीज धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे र आप 144 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी क्ला देख भाई कि हम डबल बना और डबल नहीं नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके

9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर देबो तो 00 में नवीन जी आप आप देखो देखो चाहे

घोषणा आप मन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आपन नहीं लगे कि घोषणा पत्र में जिन तरले घोषणा होते र सेती ही जन तले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराबबंदी

की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो अब चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वोकर स्थिति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होते है तो जनता अब अगोरा कर थे ₹ की कि आखिर कब मिली अब

जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही उकर बाद कर बत योना तो बन घोषणा हो ग ना अब जो प्रावधान करे बजट के बजट आही तो लेकिन [प्रशंसा] कडर हो मंत्रालय जो डर हम करे [प्रशंसा] [प्रशंसा] में आपन के कहना है कि आपन के पा साल के

कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नव रचे है 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी हो लेकिन का य तरले निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र से कि किसान मन अ आधा आबादी जि न

कह ना कहू बीजेपी के संग बंपर जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान बना कोशिश करता कि लोकसभा में एकर फायदा आप मिली देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हम किसान मन के तैसी तो फिर कांग्रे तो फिर कांग्रेस ला का ब वोट नहीं मिले इसके सा

देखो चुनाव में हाजिर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं म किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ

लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़े ना यहां आप कर पाथ भई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई

समझ में आते काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के ड़ बार याला किसान ता में पैसा मजबूर कर लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शम की लेकिन दोनों श [प्रशंसा] कान भाजपा सरकार नहीं चला मा रद्र मोदी

प्र घ हाथ जोड़ य उमीद है ठीक है ठीक ठीक चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए लाख टन ज्यादा की खरीदी अपना आप इतिहास अपन एक रिकॉर्ड फर प्रदेश के किसन

मंडला मोर प्रणाम है बधाई आप दोनों पना मन भी जोहार [संगीत] जय जोहार आप देख आईबीसी 24 पंचायती में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में रथ और आज तो प्रदेश

एक नवा इतिहास रचे है अब ओकरो केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करब आज के पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को

होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बताते कि यह ओकर घोषणा पत्र के वजह हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते कि उकर पा साल के कार्यकाल में जिन तरले उमन किसान ने सेय बंपर खरीदी हु अब देखना ही श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज

पं जड़ चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम संग बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दस हम स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोनों जन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बाद चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के

इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दरल धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र

फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिल फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार की स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही

है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं

सोचता हूं कि देश भर के समोच राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ला देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा

सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम उपेश बघेल की सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे

ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वोह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च

कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ले ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए हैं ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाएगी फिर देखना होही कि शे की राजनीति कहां जाके रुख राजेश राज आईबीसी 24

रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो रिपोर्ट भी नवीन जी धनन जी आपन दोनों ही जन देखे और यह रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन

सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हम जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने है व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते

है और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन ओकर सही मूल्य जो हमन

मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला और उस समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब कह रहे हैं आय

जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से ती करके अब लाभ लेके को पजन कर के कोशिश कर

ठी नज जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश में चला थ धान खरीदी में धानसा एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा कांग्रेस सरकार दौरान हो ग से और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीद जाही और प्रदेश के सा लाख किसान जो पंजीकृत हो से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने

के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसे की व्यवस्था कांग्रेस सरकार करर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हम धान खरीद सरकार कर्ज ले तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहु वर्तमान सरकार के फटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप

मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लग कि इधर 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल अग हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज

हिसाब से मने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो मसे लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान किसा धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में जो 27 28 मिलना

किसान ला वो तो मिल नहीं अभ 21 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरीद में धान उत्पन्न कर सके तो मो लगते की भा जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे हैं आधा ही धान

खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे य पूरा धान ि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार ला जा है नवीन जी वाकई में पा साल के कार्यकाल में जिन तरले कांग्रेस काम कर किसान ब ये र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 00 के बात करे हो कि

क्विंटल प्रति एकड़ की बात करे हो य नतीजा है देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवते दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान

नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सर का बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो

कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो सेर खतम से एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में

य जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं कर रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अभी कांग्रेस की जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो

बचे जोड़ के का बजट प्रावधान का नहीं कर और दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के वोट ले र लेकिन लेकिन हम हमर सरकार बा दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तल देबो

र बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो यह 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

हम दो साल के बोनस भी दे हैं फिर यद अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते है अब तीसरा कि जो जो किसान न्याय योजना के इ करमन के जो अंतिम किसल भी देबो तो ये

प्रति एकड़ ₹ हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी उ लिए चिंता करने की जरूरत नहीं जी आप आपन सरकार देखो ऐसे है रचना जी बोलते ना सूत ना कपास जला लम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद

ते मात्र 10000 करोड़ पूरक ब पूरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसे राशि लिखा है बता तो 400 करोड़ रुपया यह भूपेश बगल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट करे ब कर्जा लेरी से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान

के डर व हिसाब से 3 लाख टन न खरीदी हो अब एक क्टल बढ़ दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा कित के जो पैसा रखा भूप सरकार व्यवस्था चौथा

कि देना है न दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो को मिले नहीं मिल पाए अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर

में न के पैसा 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क वि जी आ नगदी ठीक है जवाब ले ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप

लोग बताए हो कि 300 हम जोड़ के दे उस समय ए मन काब नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब इर सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हम किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ

है जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो भा जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है व किसान के खरीद ले र बादय जब खरीदी किसान उन्नति योजना के [प्रशंसा] अतन किसान प देने वा

टाम सर सरकार प मि किसान मि नरेंद्र मोदी जी योना बना में भी योजना भी चौथा कि रखे य किसान म बोनस के नाम से दे है व ज को नहीं दे मैं क सरकार के बजट दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के व्यवस्था को

करे जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप लोग हो भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं हम

खुद अप घोष उ योजना जो बनाए अंतर्गत जा योजना बने योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा तो अब अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना के अंतिम रख रहे अरे रख रहे तो एमस में जोड़ के म [प्रशंसा] सर [प्रशंसा] प्रदेश के किसान मखा दे भारतीय जनता पार्टी

कर वादा घोषणा पत्र में रही से वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान म किसान मर आप वादा करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा के दे पै भा किसान के साथ धोखा नहीं

हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो 3 धान की मु पंचायत भवन दे अब योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही

काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकारी 25 अंग लगा काम कर हम मजबूरी न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए ज खुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी ठीक है ठीक

बात रचना जी मैं आप क कि भाई हम उन्नति योजना बनाए हम घोषणा पत्र में क उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र किसान जो घोषणा पत्र पढ़े आधार में हमला सरकार में लाए अब हम जिम्मेदार तो हम दे लेकिन बात ऐसे है

मैं एक प्रश्न पूछता हूं कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम किल का जोड़ के नहीं दे जता किसान के साथ अन्याय करना है य नहीं करन योजना योना दूसरा चीज धनंजय जी दूसरा चीज मैं आप कि हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत

मूल्य के डबल दे रहे आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी क्ला देख हम डबल बना और डबल नहीं लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9 20 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान

21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा र खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 नवीन जी देखो चाहे घोषणा आप मन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आपन नहीं लगे कि घोषणा पत्र में जन तराले घोषणा होते र

सेती ही जन तराले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो

करति कहीं ना कहीं जनता ला परेशानी होती है तो जनता अब अगोरा करथे 00 की कि आखिर कब मिली अब जि तरले आप बोला था कि योजना बनाए जाही हो प्रावधान कर बजट के [प्रशंसा] ब [प्रशंसा] [प्रशंसा] पे के कहना है आपन के पा साल के कार्यकाल की

उपलब्धि है इतिहास एक न लाख टन ज्यादा के धान खरीद लेकिन का त निशाना साथ के आपने देखो य तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग की किसान मन आधा आबादी क क बीजेपी के संग ब जी अब निशाना साथ केनर किसान बना कोशिश कर लोकसभा फायदा देखो हम

बना किसान ै हर तो फिर कांग्रे तो फिर कांग्रेस ला का बार वोट नहीं मिले इसके साथ देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम

तो कहा था ना भाई किसान ला 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान ला लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़ ना यहां आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के

धान की कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा दो पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान ख डर जारी कर ना हम सरकार 20 क्विटल कर व 31

दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वा बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी

अपन सबदम की 2 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ य शब्द की जा लेकिन दोनों शरो कांग्रेस आमी किन के बा [प्रशंसा] कान सरकार मान हाथ जोड़ के मांगा था किसान यही उमीद है जल् ठीक है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है

चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए 110 लाख टन ज्यादा की खरीदी अपना आप इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई आप आप दोनों पहुना मन भी जोहार [संगीत]

जय जोहार आपन देख बा आईबीसी 24 पंचायती मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र मा र थे अब आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है अब ओकरो केंद्र है किसान फिर का है रिकर्ड

काबर होते सियासत करब आज की पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देख जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद काबर उठ का की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के वजह ह

दूसरा धार कांग्रेस बताते कि पा साल के कार्यकाल में जिन तरन किसान ते ने सेय बंपर खरीदी हु अब देखना ही श्रे के राजनीति कहां तक जाते ऊपर आज पंती स चुके दोन ही आप इंट्रोड्यूस कर हम संग बीजेपी के नेता नवीन मार्क जी जुड़ दूस धनंजय

सिंह ठाकुर जुड़े दोन जोहार पहली रिपोर्ट दे बा चर्चा की शुरुआत [संगीत] कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़

ही कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुया है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड य बनाथ सरकार क्विंटल प्रति

एकड़ के दर धान खरीदने के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार

भाजपा के देख सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के स्थिति यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद

उससे ज्यादा हो गया हो तरह से करने पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस

के नेता यह उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बघेल की सरकार है

करें खरे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे

भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुई है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है

130 लाख टन ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा मान रच लेकिन अब श्रे के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन

जी धनज आपन दोनों ही जन देखे और यह रिपोर्ट में साफ त में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता

पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के पिछले पा साल के भी बात नहीं है हम जो कहीं ना कहीं जो साल सरकार भी चलाए पहली तो भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल

नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने है व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है

वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब कर ग तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब क रहे आ जो लाग मल के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत र

तेला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक धनजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला धान खरीदी में धान बसा 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो गई और 20

क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर दे से लगभग 40000 करोड़

रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा में ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की ओ आगे पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं अगर हम सरकार 135 लाख न खरीदी हुई 27 लाख किसान

से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ कर लेकिन ज हिसाब से 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ा जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो

लागते कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार में 27 28 मिल किसान वो तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर कई जगह बारदाना रो शि ता न धान उत्पन्न कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी की आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम

जो लक्ष टारगेट करे आधा न खरी पाही और किसान धोखा काम हुआ पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन कांग्रेस काम कर किसान बय र नतीजा है या फिर आपन के पत्र की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़

के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवती अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान

नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद ई कि मैं बता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो

कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो से खतम एसपी साथ साथ लेकिन आज के डेट में य जो पा साल का च तो सीधा

भुगतान नहीं कर रोक के रख पाट पाट में और दूसरा तरफ अी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा कि बचे जोड़ के बजट प्रधान का कर दो साल के बोनस भी दे करके झूठ बोल के

वोट ले र लेकिन लेकिन हम हम सरकार कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र हुल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोतल देबो र बावजूद हमन य देख कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि

है उ दे बूता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से भी जाही कैसे के हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ

है किय जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा की जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी देवो तो ये प्रति एकड़ 9 हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान य साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी च सरकार उरा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना

कपास जलाल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ पूरक बरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसा दे राशि लेखा बता तो 400 करोड़ रुपया य भूपेश बगेल जीी सरकारी से तो किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा लेरी से बारदाना व्यवस्था कर से एक नवंबर से खरीदी

बात कर 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय

योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था देना है तीन दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा

सधा सरता बता तु तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत कागम खड़े हुए क जी ठीक है जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के देहन उस समय ए मन का नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में हम किसान

उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भा जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है न बा खरीदी कंपलीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत [प्रशंसा] न मन

किसान किसान पैसा देने वा टाइमल सर सरकार [प्रशंसा] पहर मि किसान मि सरेंद्र योना में किसान बोनस के नाम से दे व ज को नहीं दे मैं कहा तो सरकार के बजट दिखा दे कहा 400 करोड़ वस्था करे सवाय सवाल किसान मन के मन में हवा की

केन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी आप भा एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो अंतर के राशि देवन व अलग है तो कहीं ना कहीं व जो लिए हम खुद अपन घोषणा उ योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत

जा योजना बने हैं अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के र बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बतान कहा किसान उ न्याय योजना के अंतिम स्ल रख रहे अरे भा र एस में जोड़ [प्रशंसा] मसेर बो [प्रशंसा] प्रदेश के किसान म धोखा दे भारतीय जनता पार्टी करता

जील जिन वादा जिन घोषणा पत्र में रही से वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल देर लगी किसान म किसान मर आप वादा करे 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी ह आपके जिम्मेदारी भी हर हम सरकार वादा के दे पैसा किसान के साथ

धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देबो तो पकड़ में तो भाई त 31 धान की मु पंचायत भवन न देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश

किसान गुमराह करे काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकारी 25 दना अंग लगा काम करी हम मजबूरी न योजना बनाए चार किस पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं

शुभकामना देता किसान म जल्दी 3 ठीक है ठीक बात रचना जी मैं आप क हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा कि भाई जब हम घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार

है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम कित जोड़ जोड़ तोला जो है किसान के साथ अन्याय करना है तो नय नहीं करना न्याय योजना ढकोसला योजना दूसरा चीज धनज जी दूसरा चीज आप हमार

जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे है आप 14 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देखा भाई कि हम का डबल बना और डेबल नहीं नहीं ओ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 9

2 20 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा र खाता में कहीं ना कहीं ये सब अगर दे तो 00 देखो चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे

कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप नहीं लगे की घोषणा पत्र में जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते र बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस

की राशि के हो देखो आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए तो ति कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर 00 की आखिर कब मिल योजना बना जा बायोना बन घोषणा हो प्रधान कर बजट के बट [प्रशंसा] आही मंल डर [प्रशंसा] हमन के पेट [प्रशंसा] मेंही सामने

ध ठीक है धनंजय जी भले ही आपन निशाना सा आपन के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवार 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी हु लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो

ग र से की किसान मन अ आधा आबादी जिने न कह कह बीजेपी के संग बम पर जीत मन अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान बना कोशिश करता लोकसभा में एक फायदा आप मिले देखो हमन किसान तैसी बनात नहीं हमन किसान मन के

तैसी हर तो फिर कांग्रे तो फिर कांग्रेस ला का बार वोट नहीं मिले इसके साथ देखो चुनाव में हाजिर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था

ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़ ना यहां आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान की कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप

जारी नहीं करे हम मांथ की योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर वही 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर

कांग्रेस पार्टी किसान के सांग खड़े हुए वादा बारबार याद दिलाब और किसान मन के खाता में पैसा डालने मजबूर करबो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा जा लेकिन य दोनों [प्रशंसा] शब्द स मद

हम तो हाथ जोड़ मा किसान यही उम्मीद है जल् जल् है ठीक है ठीक ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले

ज्यादा की खरीदी अपना आप एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मला मोर प्रणाम है बधाई है आप मला स आप दोनों पहुना मन के भी जोहार [संगीत] जय जोहार आपन देख था आईबीसी 24 पंच में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग

रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र मा रथ और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है ओक केंद्र किसान फिर का है ये रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करबो आज की पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा

110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बात का ब उठत हवा काबर कि भाजपा बता थे कि ये ओकर घोषणा पत्र के वजह हवा दार कांग्रेस बताते पा साल के कार्यकाल में जिन किसान

नेय बंपर खरीदी अब देखना होही शे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पं सके दोन इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दूसरा धनंजय सिंह ठाकुर जुड़ दोन जोहार पह रिपोर्ट बा चर्चा की शुरुआत कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा

111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन

आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड स बनाते सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं खर

फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति मला लेके श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर रहे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ ये रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही

है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए

मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ले देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजन के कहना है कि भाजपा

सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल के सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे

देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो कि किन है वो जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक

के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान के खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24

रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे हवा और यह रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन

सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी

बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने है व मा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत

ज्यादा किसान उत्साहित और धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर की जो राशि है वो 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन ककर सही मूल्य जो हमन

मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेक आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो क रहे जो लागत

मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत र से तेला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के

कोशिश कर ठीक है धनजय जी देखो अभी जो धान खरीदी प्रदेश में चला थ धान खरीदी में धान एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो गई और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो

पंजीकृत हो री से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 400 हज करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा में ले र से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की र आगे

पहुंचा था ना वर्तमान सरकार के फूटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बता कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लग की र 135 लाख मिट न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो

निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ कर लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज

कांग्रेस सरकार में जो 27 28 म मिलना किसान ला वो तो मिलत नहीं 83 किसान धान बेचे मजबूर होवे कई जगह बारदाना रोके भी शिकायत आ ताकि धान खरी में धान उत्पन्न कर सके तो म लागते की भार जनता पार्टी की ज आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो

लक्ष टारगेट करे आधा धान मन खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ थे र पूरा धान खरीद सि पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जाथे नवीन जीक में पा साल के कार्यकाल में जिन तर कांग्रेस काम कर किसान ब ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र मात आप की बात करे

हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव है दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देव अभी मन ला जो अंतिम किस्क राशि प्रावधान

नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हम का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई

तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे कि भाई हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के देर आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो से खतम एसपी साथ साथ से लेकिन आज के डेट में पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी

ला रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी मन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं करी

और दो दो साल के बोनस ला भी मन देबो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन नहीं लेकिन हमन का क हमर सरकार बाद कि 2 साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र हुल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोतल देबो र

बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग 920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बूता कर तो ऐसे है कि हमन तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो ये 88000 अ प्रति एकड़ के दर से अभी जाही

कैसे कि हम दो साल के बोनस भी देह फिर यद अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी की राशि भी जाते अब तीसरा की जो जो किसान न्याय योजना के इ कमन के जो अंतिम कि स्थल भी देबो तो ये

प्रति एकड़ 90 हज से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चता सरकार कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जला लम ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 10000 करो पूरक बरक बजट ले

कौन जग धान खरीद पैसा दे राश लेखा बता तो 400 करोड़ रुपया य भूपेश बल सरकारी से किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा लेरी से बारदाना वस्था कर से एक नवंबर से री बात करें 20 क्विंटल धान के डर द स वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है

अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के जो चौथा किस्त के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में

दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोनो नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान

हुई आज किसान तो पंचायत कागम खड़े क वि जी आ 3 नद ठीक है जवाब लेले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात हुई से तो मैं आप लोग बताया हू कि 300 हम जोड़ के देहन वो

समय ए मन काब नहीं दस पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब र सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में स हम किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ हैब जब धान के खरीदी हो जाक

20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल है किसान के खरीद ले बाद जब खरीदी कंपलीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत अभी [प्रशंसा] में पैसा ले किसान ले न के पैसा दे

किसान किसान पैसा देने वा टाइम लसे सर सु सरकार पहद [प्रशंसा] मोद मिते किसान नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए न योजना में भी योजना चौथा कि रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज को नहीं दे सरकार के ब दिखा देहा 400 करोड़ वस्

कर स सवाल किसान मन के मन में हवा के वादा रही वो कब तक पूरा हो देखिए रना जी आप एमएसपी अपन आप में अलग है और जो अंतर के राशि देवन वो अलग है तो कहीं ना कहीं र जो लिए हम खुद अपन घोषणा में किन उन्नति

योजना जो बनाए हैं र अंतर्गत जा योजना बने है अब वो योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा केर बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बतावा कहा किसान न्याय योजना के अतिम भाई रखे रहे एमएसपी में जोड़ के मना करसे सरकार बोनस [प्रशंसा]

प्रदेश के किसान म खा दे भारतीय जनता पार्टी अदा घोषणा पत्र में रही वादा बीजेपी कहीं कहीं दबाव प्रदेश बिल्कुल दे लग किसान किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा किसान के सा धोखा नहीं हम हर मामला

किसान ड़ लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश दे तो पकड़ में तोन मु पंचायत भवन दे अब कहा योजना बना के दे मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी कर

भूपेश बल के सरकारी क 25 अंगा लगा काम करी हम मजबूरी योजना बनाए चार कि पैसा दे और पल खुल ग जब खुद उन्नति योजना माध्यम से दे मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामना दे तो किसान मल जल्दी ठीक है बात रचना जी मैं आप कि भाई हमन उन्नति योजना

बनाए ना हमन अपन घोषणा पत्र में के उन्नति योजना र माध्यम से देबो लेकिन मैं यह कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े र आधार में हमला सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस

से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से तो अंतिम स्ल ते का जोड़ के नहीं दे तो बोनस जोड़ के देन नहीं मला जो है किसान के साथ अन्याय करना है न्याय नहीं करना न्याय योजना योना दूसरा चीज धन जी दूसरा चीज मैं आप

हमर जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे आप 14 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम का डबल बना व डेवल नहीं नहीं ओ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 2 920 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज

आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं य सब मिला के अगर दे तो 00 देख चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप नहीं लगा की

घोषणा पत्र में जन तरले घोषणा होते र सेती ही जन तरले वोट दे जाते र बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रियान्वयन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो

आप चौथा कित भी अभी तक अटके हुए हैं तो वो कर कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा करथ 00 की कब मि योजना बना जा बा ब हो प्रावधान कर बजट के [प्रशंसा] बट अ जो डर हम [प्रशंसा] करन के पेट में तोन केही सामने र ठीक

है ठीक है धनंजय जी भले ही आपन निशाना साध था हो आपन के कहना है कि आप मन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवाचे है 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी हुए लेकिन का य तरह निशाना साथ के आपने

देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र से कि किसान मन अ आधा आबादी जि न कह ना कहू बीजेपी के संग बंपर जीत कर मन के का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान ते बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एकर फायदा

देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हम किसान मन के हित हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं मिले किन देखो चुनाव में हाजिर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले है और जीत हार के कारण कई सारे

हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमनी पड़े ना यहां आप कर पा तो भाई आप आर्डर जारी करना है कि

किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर हम मान योजना का पैसा द पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर आर्डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर से व 3100 दाम का नहीं लिख

कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वाद बार बार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डालने मजबूर करबो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन

सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ शबद हम जाना लेकिन य दोनों शब्द विरोध कांग्रेस आदमी किन के बा कांग्रे आदमी किन के [प्रशंसा] बा जीर रद हम हाथ हम तो ब से हाथ जोड़ के मांगा था किसान यही उम्मीद है जल्द जल्द ठीक है ठीक है

ठीक ठीक है चाहे यह भाजपा की उपलब्धि है चाहे ये कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपना आप माय एक इतिहास आ अपन आप एक रिकॉर्ड है गाव फिर प्रदेश के

किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई है आप मला कर स आप दोनों पहुना मन भी [संगीत] जोहार जय जोहार आप मन देखा था बाबा आईबीसी 24 पंचायती में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र

थे और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है और केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करब आज के पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते

फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बताते कि यह उकर घोषणा पत्र के दसार कांग्रेस बता पा साल के कार्यकाल में किसान य बंपर खरीदी अब देखना ही श की राजनीति कहां तक जाते पर आज पके दोन ूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन

मारकंडे जी जुड़ दस धनंजय सिंह ठाकुर जुड़ जोहार प रिपोर्ट बा चर्चा की शुरुआत कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाड़ी

कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकॉर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल

प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा

सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा करे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेती यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले अ 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो

गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस

के नेता ये उपलब्धि के श्रेय पहले की भूपेश बगल सरकार ले देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम भूपेश बेल की सरकार है करे

खरे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने

हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां जो किसान है व जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश में 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के

उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच ग है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है

रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे और यह रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता

पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हम जो ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक

चलता तो मा कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने है वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते है और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर

अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक

के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल करबो कह रहे लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत

ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पजन कर के कोशिश कर ठीक नज जी देखो अभी जो दन खरीदी प्रदेश में चला थ धान खरीदी में न साय 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रति

एकड़ किसान से खरीदी जाही व प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कररी से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद

सरकार कजम ले री से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष की र आगे पहुंचा थाना वर्तमान सरकार के फूटी कोड़ी के कोई योगदान नहीं है का कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लक्ष कि ध 135 लाख मिटिक न

धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात करथ तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल

सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो मसे लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए ज कांग्रेस सरकार 278 मिल किसान व तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर कई जगह बारदाना रो ता न धान

उपन कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आ न री पाही और किसान धोखा काम हु पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी पा साल के कार्यकाल में कांग्रेस काम कर किसान नतीजा है फिर आपन के वचन पत्र में

जनत आपन 00 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव है दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है तो झुला झुला

के चार बार में देवती अभी ए मन ला जो अंतिम किस्त तक राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा कि जब 2018 में हमर सरकार जब ग से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि

जो बोनस के जो राशि व 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम यह नहीं सोचे रहे हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार में खरीदी सीधा भुगतान हो खतम एमस साथ साथ लेकिन आज के

पा साल कांग्रेस चलाई तो सीधा भुगतान नहीं कर रोक के रख पाट पाट में और दूसरा तरफ अ भीन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के बजट प्रावधान का नहीं कर और दो साल के

बोनस भीन दे करके झूठ बोल के ट ले र लेकिन लेकिन हम सरकार एक बार कि 2 साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र तल देबो और एकर जो बचे हुए जो अंतिम किस्त है तोतल देबो र बावजूद हमन य कहीं ना कहीं हमन लगभग

920 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बूता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना तो यह 88 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे कि हम दो साल के बोनस भी दे

फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है किय जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम किल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सर

देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपास जलाल ल अरे कहा तो सरकार बने के बाद मात्र करोड़ बरक बजट ले कौन जग धान खरी प राश खा बता 400 करोड़ रुपया य भूपेश ब सरकारी से किसान मला पेमेंट कर कर्जा ले से बारदाना

व कर से खरीदी की बात कर 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला

देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा भप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन

मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा सरता बता तुम तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे 00 एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत का खड़े न ठीक है जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लोग बताया कि 300 हम जोड़ के दे वो समय मन का पहला दूसरा तरफ अगर तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में स हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा

तरफ जब धान के खरीदी हो जाक 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तोई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो एक क्विंटल किसान के री बाद खरीदी कंप्लीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत दे अभी पेट में [प्रशंसा] मता किसान देने टा सर सरकार

[प्रशंसा] पद नहीं मिल सकता ये नरेंद्र मोदी जी कहेगा तब हम न्याय योजना बनाए हैं न्याय योजना में भी न्याय योजना भी चौथा कि हम रखे य किसान मला बोनस के नाम से दे है व जम को नहीं दे मैं कहा तो तो सरकार के बजट

दिखा दे कि कहां 40000 करोड़ के व्यवस्था को करे नवीन जी ये सवाल ये सवाल किसान मन के मन में त हवाई की 00 के जिन वादा रही से वो कब तक पूरा हो देखिए रचना जी मैं आप लोग का भाई एमएसपी अपन आप में एक अलग है और जो

अंतर के राशि देव अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद घोष किसान उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत जा योजना बने योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा तो अब अगर एक जगह बताहा किसान न्याय योजना के अतिम सरकार [प्रशंसा] नसनस [प्रशंसा] प्रदेश के किसान

म भारतीय जनता पर्टी जीन वादा घोषणा पत्र में रही वो वादा के बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान किसान मर आप वादा करे ह 31 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी है आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा

के दे प किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के रा देबो तो पकड़ में तो धान की मु पंचायत भवन दे अब कहा योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर

काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरकारी क 25 अंगा लगा काम करी हम मजबूरी में योजना बनाए चार कि पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देब मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं दे शुभकामनाए देता किसान म

जल्दी ठीक है त रना जी आप क कि भा हमन उन्नति योजना बनाए ना हम अपन घोषणा पत्र में क उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं यह कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम दे

लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अंतिम की स्ल का जोड़ के नहीं जोड़ के किसान के साथ अन्याय करना है कर योना दूसरा न जी दूसरा आप हमार जो सरकार

है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य के डबल दे रहे 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम डबल बना और डेबल नहीं नहीं ओ लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 220 एक्स्ट्रा जोड़ के दे तो आज आप हिसाब

करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा र खाता में कहीं कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 न जी देख चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप नहीं लगा की

घोषणा पत्र जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते र बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के कवन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कित भी अभी तक

अटके हुए है तो वो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते तो जनता अब अगोरा कर 31 आखिर कब मिली अब बो योजना बना जा बाद तो बत योना तो बन घोषणा हो ग जो प्रावधान करे बजट के बजट आही डर जारी मंत्रालय रर डर [प्रशंसा] [प्रशंसा] हमने

ठीक है धनजन जी भले ही आपन निशाना साध आपन के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नव रचे है 110 लाख टन ले ज्यादा के धान खरीदी हो लेकिन का य तरह निशाना साथ के आपने देखो

ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग र से कि किसान मन अ आधा आबादी जने न कहू ना कहू बीजेपी के संग बंपर जीतन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान बना कोशिश कर ताक लोकसभा में फायदा आप मि देखो

हमन किन तैसी बनात नहीं हमन किसान मन के हित हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं मिले देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान मन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे हो

जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे किसान की आमनी पड़े ना यहां आप कर पाते भाई आप आर्डर जारी करना है कि

किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ थ आज तक आर्डर आप जारी नहीं कर माथ की योजना का पैसा द पर किसान डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरी कर डर जारी करे हो ना हम सरकार 20 क्विंटल कर व

3 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहतो और धोखा करे काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के संग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डाल मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के

प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भाजपा दूसरा तरफ श जाना लेकिन य दोनों [प्रशंसा] शबद स ना जी रद्र मोद अभी दे पै हम तो हाथ जोड़ मा हम तो बिष्णु साय से हाथ जोड़ के मांगा था किसान वाले दे दे यही उम्मीद है जल्दी जल्दी की जन

मि ठीक है ठीक है ठीक ठीक है चाहे ये भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए हैं 110 लाख टन ले ज्यादा की खरीदी अपन आप में ये एक इतिहास आवा अपन आप एक रिकॉर्ड हैव फिर

प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है और आप बधाई है आपला कर स आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार जय जोहार आप मन देखा था बाबा आईबीसी 24 पंचैती में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के

राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र थे और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है अब ओक केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करबो आज की पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान

खरीदी ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त को होते फिर सियासत के बाद काबर उठ काबर की भाजपा बता थे कि यह ओकर घोषणा पत्र के वज हवा दूसरा धार कांग्रेस बताते पा साल के कार्यकाल में जिन किसान बपर खरीदी अब देखना ही शे के राजनीति कहां तक जाते पर आज

पं चुके दोनों ही ूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दस धनंजय सिंह ठाकुर जुड़ दोन जोहार पह रिपोर्ट बा चर्चा की शुरुआत कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ी कावर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप में एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू हुए है एक

और रिकर्ड यस बना थे सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के रले धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वो है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मल्ला मिली फिर एक कीर्ति माला लेकर श्रे के

राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर रहे थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना

काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देवा थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में वो श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा

कीमत दे के काम भूपेश बगेल की सरकार है करे रे स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे

रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी होया है प्रदेश

मा 40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टनने ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रापर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसान मला

बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनज आपन दोनों ही जन देखे आवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों

जन एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहली नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15

साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी हमार किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ

थे कि कहीं ना कहीं 920 रप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 20 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देब करके

तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल करब जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक

उत्साहित रूप से खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बीचक से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक धनंजय जी देखो अभी जो दन खरीदी प्रदेश में चला थ न में धान बसाय पर 1 नवंबर के

धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो ग और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा की व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से

लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्ज ले री से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष के आगे पहुचा ना वर्तमान सरकार के फुटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लग सके कि धर 135 लाख मिटिक न

धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल

सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो मसे लगते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा होए जो कांग्रेस सरकार में 278 मिल किसान व तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर कई जगह बारदाना रोके शिकायत तान धान उपन कर सके तो लगते की भ

जनता पार्टी आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आ न ही और किसान धोखा काम हु पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी पा साल के कार्यकाल में कांग्रेस काम कर किसान नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र

में जिनत आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी की राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला

झुला के चार बार में देवती अभी ए मनहा ला जो अंतिम किस्त तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद ई कि मैं बता था कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से और उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के

राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हमन का कर रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हमन ये नहीं सोचे रहे कि भा हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे और र आधार में खरीदी

सीधा भुगतान हो से खतम एमएसपी साथ साथ ग से लेकिन आज के डेट में ये जो पा साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द और दूसरा तरफ अी न कांग्रेस के जो सरकार रही से तो

एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो दो साल के बोनस भीन दे करके झूठ बोल के वोट ले र लेकिन हम हमर सरकार ब की दो साल के पुराना

जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त तो दे बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है दे बता कर तो ऐसे है हम तो लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो

ना तो 8 हज प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हमन दो साल के बोनस भी दे फिर य अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम

कि स्ल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर की जरूरत सररा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जलाल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के

बाद मात्र 00 करोड़ पूर बरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसा दे राशि लेखा बता तो 00 करोड़ रुपया य भूपेश बल जी सरकारी से किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा लेरी से बारदाना व्यवस्था कर 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब

से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल सम बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला देतो और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था के चौथा कि देना है तीन ठ

दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोनो मिले कोन नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के

पैसे 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान पंचायत का खड़े हुए वि जी न ठीक जवाब ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी की ए मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप

लोग बताए कि 300 हम जोड़ के दे उस समयन का नहीं पहला दूसरा तरफ अगर जान तो ए मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हमन किसान उन्नति योजना बना के हम एक मु दूसरा तरफ है कि ज

जब धान के खरीदी हो जाक 20 20 20 क्विंटल खरीदी करे हम 21 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करें तो भाई जो अंतर के जो खरीदी के जो अंतर के जो क्टल किसान के खरीद ले बाद जब खरीदी कंप्लीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खतम दे अभी पेट में गु मारते बताब

भा बोन किसान पै देने टाम सरकार सरकार [प्रशंसा] पद सा नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जी कगा तब हम न योजना बना योजना में भी योना च रख किसान म बोनस के नाम से दे व ज सरकार के ब दिखा देहा 400 करोड़ व सवाल किसान मन के मन

ह रही कब तक पूरा हो देखि रचना जी आप एमएसपी अप में और जो अंतर के राशि देव वो अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अपन घोष किन उन्नति योजना जो बनाए हैं अंतर्गत योजना बने अब वो योजना में जो अभी

प्रावधान कर पैसा के बाद तो जाही तो मन अब अगर एकर जगह बता किसान न्याय योजना केम [प्रशंसा] स [प्रशंसा] ी के किसान म पार्टी बता अभी जीलन वादा घोषणा पत्र में रही से वो वादा के बीजेपी क कहीं दबाव महा प्रदेश में बिल्कुल दे लगी किसान म किसान मर आप वादा

करे ह 3100 देके तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा के दे प किसान के साथ धोखा नहीं हो हम हर मामला किसान के खड़ र लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश देब तो पकड़ में तो 300 धान

कीमत एक मुस्त पंचायत भवन न देबो अब कहा योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम कर ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल के सरका 2500 दना अंगा लगा काम करी हम मजबूरी योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए

जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव मैं शुभकामनाए देता किसान मल जल्दी 3 ठीक है बात रचना जी आप कि हमन उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई

जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हमला सरकार में लाए अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तोला अवसर मिली से अम किसान के साथ अन्याय करना है करना

दूसरा दूसरा आप हमार जो सरकार है व प्रतिबंध है लागत मूल के डबल दे 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देखो भाई कि हम होक डबल बना और डबल ही नहीं ओक लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 25 920 एक्स्ट्रा ओ

जोड़ के देथा तो आज आप हिसाब करके बताऊ एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेच थे ओकर खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आप लगे की घोषणा पत्र

जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी की मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है तो वो कहीं

ना क जनता परेशानी होती तो जनता अब अगोरा आखिर कब मिली बो योजना बना जा बा बत ना बन घष हो जो प्रावधान करे बजट के बजट आहीर जारी हो ग मलर अरे [प्रशंसा] छोर के पेट [प्रशंसा] मेंही सामनेर ठीक है धनज जी भले ही आपन निशाना साध आपन

के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल की उपलब्धि हैन इतिहास एक नवार 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी लेकिन का य तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग से की किसान

मन आधा आबादी जने न कह कह बीजेपी के संग बप जीतन अब निशाना साथ के आपन अपन आप फर किसान बना कोशिश कर लो एक फायदा आप मिल देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हम किसान मन के हित हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला

का वोट नहीं मिले इसके देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ

3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे किसान की आमदनी पड़ य आप कर पा भ आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी होआ तक जारी नहीं कर हम

माथ योजना का पैसा पर किसान डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरी डर जारी कर हो ना हम सरकार 20 क्टल कर व 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाह और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के स खड़े हुए

बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर कर ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की 21 क्विंटल धान खरीदा भा दूसरा तरफ श जाना लेकिन दोनों [प्रशंसा] शब्द भा सर चर

हम तो बण सा से हाथ जोड़ के मांग किसान यही उमीद है जल् की है ठीक है ठीक है ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले

ज्यादा की खरीदी अपना आप इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फिर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है बधाई है आप संगे आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार जय जोहार आपन देखा था आईबीसी 24 पंचैती में आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संघ रचना नितेश छत्तीसगढ़ के

राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र थे और आज तो प्रदेश एक नवा चे अब ओक केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करबो आज की पंचायती एकरे [संगीत] ऊपर तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी

ऊपर अब देखे जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर की भाजपा बता थे कि ये ओकर घोषणा पत्र के वज ह दूसरा धार कांग्रेस बताते की पा साल के कार्यकाल में किसान य बंपर खरीदी हु अब देखना होही श्रे के राजनीति कहां तक जाते आज

पं चुके दोनों ही इंट्रोड्यूस कर हम स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़ दस धनंजय सिंह ठाकुर जुड़ दोन जोहार पहली रिपोर्ट बा चर्चा की शरत कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अत का कीमत में धान

की सरकारी खरीदी अब पहले कबू नहीं हुए हैं एक और रिकर्ड बनाथ सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा घलो अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मला मिली फिर

कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ यह रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले

100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप ये कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों

में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ति विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता ये उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सरकार ल देव थ कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में

श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार है करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़

सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है व जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31

जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश मा 40 लाख हेक्टर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर सब पहली तो प्र देश के किसन मला

बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गई है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन एक एक

ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी की जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहले से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं

पहली तो भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने हैं व निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो इस समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ

थे कि कहीं ना कहीं न 20 रप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मन र सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके

तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेकर आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के 24 तक के जो डबल लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हु कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से

खेती ला अपन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बीचक र से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पर्जन कर कोशिश कर ठीक धनजय जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश में चला थ धान खरीदी में धान ल बसाय पर 1

नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो गई से और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 25 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस

सरकार करदर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद हम सरकार करजम लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष्य के ओ आगे पहुंचा था ना यमा वर्तमान सरकार के फुटी कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे तो हम लग कि

धर 135 लाख मिट्टी न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से मने 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाए

जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो मले लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान के साथ धोखा हो कांग्रेस सरकार में 278 मिल किसान व तो मिल नहीं किसान धान बे मजबूर कई जगह बारदाना रो शिकायत ताकि न धान उपन कर सके

तो लगते की भ जनता पार्टी आने वाले सम धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आ न री पाही और किसान धोखा काम हु पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी पा साल के कार्यकाल में जि कांग्रेस काम कर किसान नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत

आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो य नतीजा देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है की जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा

अभी मन ला जो अंतिम किस तक राशि प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बता कि जब में हमार सरकार जब गी से उस समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि वो 00 हमना का कर रहे उ जोड़

के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के देर आधार में खरीदी हो सीधा भुगतान हो से खतम एसपी साथ साथ से लेकिन आज के डेट में जो पा साल कांग्रेस चलाई से

तो सीधा भुगतान नहीं कर रोक के रखी पाट पाट में और दूसरा तरफ अी कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर केरा अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का बजट प्रावधान का नहीं कर दो साल के बोनस दे करके झूठ बोल

के वोट ले न हमन क हमर सरकार बा कि दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस र ल देबो और एक जो बचे हुए जो अंतिम किस्त तोल देब र बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 900 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर की राशि है उ दे बता

कर तो ऐसे है कि हम तो भा लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो ना ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हमन दो साल के बोनस भी देह फिर य अंतर के राशि भी बढ़ा देवन और दूसरे तरफ

है कि ये जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के इ करमन के जो अंतिम कि स्थल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान ए साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार करी चिंता कर की जरत

सररा कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सूतना कपास जलाल ल अरे मैं कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ बरक बजट ले कौन जग धान खरीद पैसा दे राशि लेखा बता तो 40000 करोड़ रुपया य भूपेश बल जी सरकारी से किसान मंडला पेमेंट कर कर्जा लेरी से

बारदाना व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल समला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और

न्याय योजना के चौथा कित के जो पैसा रखा स भूप सरकार व्यवस्था की चौथा कि देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो कोन मिले कोन नहीं

मिल अभी सीधा सधा सरता बता तुमला तुम घोषणा कर रहे भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसे एक मु नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत खड़े हु जवाब देखो है रचना जी की मन जब एमएसपी के दर में जो खरीदी करे की जो बात ई से तो मैं आप लो

बताया 300 हम जोड़ के दे उस समय पहला तरफ अगर जा तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के जैसे चार बार में हम किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ है जब धान के खरीदी हो जा 20 क्विंटल खरीदी करे हम क्विंटल खरीदी

शुरू करे तो जो अंतर के जो खरीदी के केटल किसान के खरीद बाद खरीदी कंपलीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खम दे अभी पेट में न पैसा किसान किसान पैसा देने वा टाम ल सरकार सु सरकार [प्रशंसा] प किसान सा नहीं मिल स नरेंद्र मोदी जी

कगा योजना बना योजना में भी ना च रख किसान म बोनस के नाम से दे सरकार के ब दिखा देहा 400 करोड़ सवाल किसान के मन ह रही कब तक पूरा देख रचना जी आप एमस अलग है और जो अंतर के राशि देव व अलग है

तो कहीं ना कहीं लिए हम खुद अप घोष उ योजना जो बनाए अंतर्गत योना बने योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा तो जा अगर एक जगह बता किसान न्याय योजना [प्रशंसा] स [प्रशंसा] प्रदेश के किसान म खा दे भारतीय जनता पार्टी कर बता अभी जी ल जिन वादा जिन

घोषणा पत्र में रही से वो वादा कीथ बीजेपी कहीं ना कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान किसान मर आप वादा करे 3 दे तो आपके दायित्व भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार वादा दे प किसान के साथ धोखा नहीं न हम हर मामला किसान के

खड़ लेकिन जन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा था कि हम अंतर के राश दे तो पकड़ में भा त 3100 धान कीत एक मुस्त पंचायत भवन न देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह कर काम करे ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी भूपेश बल

के सरका 25 ना अंगा लगा काम करी हम मजबूरी न योजना बनाए चार किसम पैसा दे और पल खुल गए जब खुद उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव शुभकामना देता किसान म जल्दी 3 ठीक है जी मैं आप कि भा हमन उन्नति योजना बनाए

हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं यह कहा था कि भाई जब हमन घोषणा पत्र के किसान घोषणा पत्र पढ़े र आधार में हम सरकार में ला अब हम जिम्मेदार है तो हम दे लेकिन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई

जब तो सरकार में रहे जब तोसर मि से अंतिम स्ल का जोड़ के नहीं जोड़ किसान के साथ अन्याय करना है नय नहीं कर दूसरा जी दूसरा आप हमार जो सरकार है वो प्रतिबंध है लागत मूल्य डबल दे आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से

एमएसपी की राशि देख भाई कि हम का डबल बना और डबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 220 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 2 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे

खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 चाहे घोषणा आपन के हवाए चाहे कांग्रेस सरकार के ई लेकिन आपन नहीं लगे की घोषणा पत्र में जनत घोषणा होते सेती ही जनत वोट दे जाते उ बाद जनता ले कहीं ना कहीं छलावा

हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के क्रिया में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है तो वो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होती तो जनता

अगोरा आखिर कब मिली बो योजना बना जा बात ना घोषणा हो ग प्रावधान करे बजट के बट [प्रशंसा] आही होल [प्रशंसा] [प्रशंसा] रमने तब भी हमन बोनस लो धोखा नहीं कर स ठीक है धनंजय जी भले ही आपन निशाना साध आपन के कहना है कि आपन के पा साल के

कार्यकाल की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवा रचे है 110 लाख टन ले ज्यादा के धान खरीदी हुए लेकिन का य तरह निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो गई रही से कि किसान मन अ आधा आबादी जिने न कहू न कहू बीजेपी के संग

बंपर जीत हो कर मन ई का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान ते बना कोशिश कर लोकसभा में एक फायदा आप मिली देखो हमन किन हिसी बना नहीं हम किसान मन के तैसी हर तो फिर का तो फिर कांग्रेस ला का वोट नहीं

मिले इसके साथ देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए

पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे किसान की आमनी पड़ ना य आप कर पाथ भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान की कीमत 3100 खरीदी होआ थे आज किन करताल न कर सरकार कारण आप किसान देना नहीं चाह और

धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के खड़े हुए बारबार याला किसान मन के खाता में पैसा ा मजबूर कर ठीक एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की क्टल भाजपा दूसरा तरफ जाना लेकिन [प्रशंसा] दोनों भा भा सर 3 घोषणा

कर हम तो ब से हाथ जोड़ के मांगा किसान उमी है ठीक चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात य है कि नवा कीर्तिमान आज रचे गए 110 लाख टन ज्यादा की खरीदी अपन आप इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड फर प्रदेश के

किसन मला मोर प्रणाम है आ आप मला कर संग आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार जय जोहार आपन देख था बा आईबीसी 24 पंचवती में आप मन के स्वागत है मैं हूं आपन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में रथ

और आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे है अब ओक केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड अ काबर होते सियासत करबो आज की पंचायती एकरे [संगीत] परर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आंकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी के ऊपर अब देखो जाते तो सियासत त को

होते फिर सियासत के बाद का ब उठ काबर कि भाजपा बताते कि ये घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते की पा साल के कार्यकाल में जिनन किसान य बंपर खरीदी हु अब देखना ही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पंती चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम

स बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूस स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े दोन जोहार है पहली रिपोर्ट देख बा चर्चा की शुरुआत कर [संगीत] नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का

खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान की सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है

एक और रिकर्ड बनाते सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मला मिली फिर कीर्ति मला लेकर श्रे के

राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के सेथ यह रिकॉर्ड बने हैं हां धान की खरीदी हो रही है और हम हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो

चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना

काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूपेश बगल सर देव कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए हैं ऐसे में श्रे कैसे ले सकते हैं सबने ज्यादा कीमत देके काम

भूपेश बघेल की सरकार है करे देख स्थिति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि पाच साल से हमारी सरकार थी और जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी

पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट लेंगे भी तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना ही काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हुया है प्रदेश में

40 लाख हेक्टेयर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान की खरीदी हो जाए फिर देखना होही कि श की राजनीति कहां जाकर रुकी राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर ले लिए तो प्रदेश के किसन मंडला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है

लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनंजय आपन दोनों ही जन देखे हवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं

पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात नहीं है हम हमर जो कहीं नाना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओ भी

हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति आज तक चलता कोई फेर बदल नहीं हो और निश्चित रूप से जो योजना बने है वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सती प्रोत्साहित हुआ

थे कि कहीं ना कहीं 920 रप के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि है व 920 जब बढ़ी से तो एक तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो

करके तो आप देखो कि हमर 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेक आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हमन 2023 तक के 24 तक के जो डबल कर क रहे जो लागत मूल्य के डबल वो कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे

र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक र से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से कती करके अब लाभ लेके को पजन कर की कोशिश कर ठीक धनंजय जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश

में चला थ य धान खरीदी में धान बसाए 1 नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो गई और 20 क्विंटल धान प्रतिक किसान से खरीदी जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीदने के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान

करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा लेरी से तो अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुचा वर्तमान सरकार के फ कौड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में

रहे लग कि र 135 लाख मिट न धान की खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21 क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद

कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीना बढ़ाए जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश के किसान धोखा कांग्रेस सरकार में 278 मिल किसान व तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर कई जगह बारदाना रोके

शिकायत ताकि न धान उत्पन कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी आने वाले समय धान खरीदी तो आज हम जो लक्ष टारगेट करे आधा न खरी पाही और किसान धोखा काम हु पूरा नवती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी पा साल के कार्यकाल में जि कांग्रेस काम कर किसान ये

र नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जत आपन 00 की बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़ के बात करे हो यका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि पा साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देव है दूसरा तरफ है

कि जो अंतर के राश देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी ए मनहा ला जो अंतिम किस तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बताता कि जब 2018 में हमार सरकार जब गी से व समय

कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 हम का कर रहे जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि हमर सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़

के दे आधार में खरीदी सीधा भुगतान हो खतम एसपी साथ साथ लेकिन आज के डेट में ये जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द से और दूसरा तरफ अभी न कांग्रेस के जो सरकार रही

से तो एमएसपी के जो एमएसपी के साथ में जो अंतर के राश अंतिम चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं करी और दो दो साल के बोनस ला भी मन देबो करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन सर दो साल के पुराना बचे

बोन बचे हुए जो अंतिम किस्त तो बावजूद हम कहीं ना कहीं हम लगभग 0 से ऊपर के जो खरीदी अंतर के राशि है दे कर तो ऐसे हम तो लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब करके देखो तो ये 88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे

कि हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है किय जो एमएसपी के राशि भी जाते तीसरा जो जो किसान न्याय योजना के कमन के जो अंतिम किल भी देबो तो ये प्रति एकड़ 00 से भी ऊपर के जो राशि भुगतान भारतीय जनता पार्टी

सरकार देखो ऐसे रचना जी बोते कपाला ल सरकार बने के बाद मात्र दज करोड़ बरक बजट ले कौन जग धान री पै राश ले बता 40 हज करोड़ रुपया य भूपेश बल सरकारी से किसान मला पेमेंट कर कर्जा ले से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात

करी 20 क्विंटल धान के आर्डर दी स वो हिसाब से 135 लाख मेट्रिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल में साला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140 लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 83 किसान ला दे और न्याय योजना के चौथा किस्त के जो

पैसा रखा स भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा कित देना है तीन ठ दे चुके तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो साल के बोनस के नाम से किसान अलग ठ एक साल के बोनस दे हो को मिले नहीं मिल पाए अभी सीधा-सीधा सरता बता

तुमला तुम घोषणा कर रहे हो भाई कि पंचायत स्तर में धान के पैसा 00 एक मुस नगदी भुगतान हुई आज किसान तो पंचायत काम खड़े हुए क विषण सा जी आ 300 नकदी द ठीक है जवाब ले ले नवीन जी देखो ऐसे है रचना जी कि ए मन जब एमएसपी के दर में

जो खरीदी करे की जो बात होई से तो मैं आप लोग बताया ह कि 300 हम जोड़ के देह वो समय ए मन काब नहीं दीस पहला दूसरा तरफ अगर जा तो मन जब सरकार आए के बाद किसान न्याय योजना बना के मन जैसे चार बार में द स हम

किसान उन्नति योजना बना के हम मु दूसरा तरफ जब धान के खरीदी हो जा 20 क्विंटल खरीदी करे हम 2 क्विंटल खरीदी अभी शुरू करे तो जो अंतर के जो अंतरल किसान के खरीद बाद खरीदी कंपलीट हो तो किसान उन्नति योजना के अंतर्गत खम दे अभी में [प्रशंसा] लेके न के पैसा दे

किसान उ किसान उ पैसा देने वा टाइम लगा जैसे हम सरकार सुन हम सरकार [प्रशंसा] पह मिल किसान मि नरेंद्र मोदी जी क योजना बना योजना में भी ना च रख किसान म बोनस के नाम से दे सरकार के ब दिखा देहा 4 करोड़ सवाल किसान मन के मन

ह रही कब तक पूरा हो देखि रचना जी आप अपन आप में अलग है और जो अंतर के राशि देव व अलग है तो कहीं ना कहीं लिए हम ुद घ उ योजना जो बनाए तगत जाना ब योजना में जो अभी प्रावधान कर पैसा के बा जा अगर जग बता किसान योना केरे

रमस में जोड़ मनासे सर बोनस के नस [प्रशंसा] कि का भारतीय जनता पार्टी कर बता वादा घोषणा पत्र में रही वादा के बीजेपी क कहीं दबाव प्रदेश में बिल्कुल दे लग किसान किसान आप वादा करे 3 दे तो आपके दाय भी है आपके धर्म भी आपके जिम्मेदारी भी हम सरकार

वादा किसान के सा धोखा नहीं हम हर मामला किसान ड़ लेकिन प्रकार से नवीन मारकंडे जी कहा हम अंतर रा दे पकड़ में तो आ गया ना भाई त कसे 3100 धान कीमत एक मुस्त पंचायत भवन का नगद देबो अब कहा की योजना बना के देबो मतलब प्रदेश किसान गुमराह करे काम

करे हो ना यही काम यही काम नरेंद्र मोदी जी करी ज भूपेश बगल के सरकारी कट 2500 द ना अड़ंगा लगा काम करी हम मजबूरी न्या योजना बनाए चार किसम पैसा देन और पल खुल गए जब खुद खा उन्नति योजना के माध्यम से देबो मतलब नरेंद्र मोदी जी पैसा नहीं देव

मैं शुभकामना देता किसान म जल्दी 3 ठीक है ठीक है रचना जी आप हम उन्नति योजना बनाए हम अपन घोषणा पत्र में उन्नति योजना र माध्यम से दे लेकिन मैं ये कहा था कि भाई जब हम घोषणा पत्र किसान घोषणा पत्र पढ़े आधार में हम

सरकार में ला अब हम जिम्मेदार तो हम देन बात ऐसे है मैं एक प्रश्न पूछता कांग्रेस से कि भाई जब तो सरकार में रहे जब तो अर मि से अंतिम किसान के साथ अन्याय करना है दसरा दूसरा आप हमर जो सरकार है व प्रतिबंध

है लागत मल डबल दे रहे है आप 14 2014 के एमएसपी की राशि और आज के हिसाब से एमएसपी की राशि देख भाई कि हम का डबल बना और डेबल नहीं नहीं र लिए जो किसान उन्नति योजना लाके 900 220 एक्स्ट्रा ओ जोड़ के दे तो आज आप

हिसाब करके बता एक एक जो एकड़ जमीन है र जो धान 21 क्विंटल अगर बेची किसान बेचा थे खाता में कहीं ना कहीं ये सब मिला के अगर दे तो 00 चाहे घोषणा आप मन के हवा चाहे कांग्रेस सरकार के हुई लेकिन आप नहीं लगा की घोषणा

पत्र जिनत घोषणा होते सेती ही जले वोट दे जाते बाद जनता कहीं ना कहीं छलावा हो जाते बहुत लंबा इंतजार योजना के कवन में लग जाते चाहे वो शराब बंदी के मुद्दा हो कांग्रेस सरकार के चाहे वो बोनस की राशि के हो देखो चौथा कि भी अभी तक अटके हुए है

तो वो कहीं ना कहीं जनता परेशानी होते अगोरा आखिर कब मिली योजना बना जा बा बन घोष हो प्रावधान कर बजट के [प्रशंसा] ब डर [प्रशंसा] हमन पेट [प्रशंसा] में ठीक है धनजन जी भले ही आपन निशाना साध आपन के कहना है कि आपन के पा साल के कार्यकाल

की उपलब्धि है जिन इतिहास एक नवा रचे है 110 लाख टन ज्यादा के धान खरीदी हु लेकिन का एक तर निशाना साथ के आपने देखो ये तो विधानसभा के रिजल्ट के साथ ही घोषित हो ग रही से कि किसान मन अ आधा आबादी जिने न कह

ना कहू बीजेपी के संग बंपर जीत मन का अब निशाना साथ के आपन अपन आपला फेर किसान बना कोशिश कर ताक लोकसभा में एक फायदा आप मिली देखो हमन किन तैसी बनात नहीं हम किसान मन के हित हर तो फिर कांग्रे तो फिर कांग्रेस

ला का ब वोट नहीं मिले इसके सा देखो चुनाव में हाजर के अंतर के कई सारे कारण होते हैं हम किसान के भरपूर सहयोग प्रदेश के किसान बन के मिले हो और जीत हार के कारण कई सारे उ हो जाते ना हम तो कहा था ना भाई

किसान लाभ 3100 धान कीमत वादा करे हो तो देना चाहिए पैसा किसान लाभ लेकिन ना तो आपके नरेंद्र मोदी जी दे पा किसान की आमदनी पड़ ना य आप कर पाते हो भाई आप आर्डर जारी करना है कि किसान के धान कीमत 3100 खरीदी हो आज तक आर्डर आप जारी नहीं

कर हम माथ की योजना का पैसा पर किसान आर्डर तो जारी करके बताओ भाई समझ में आते आप 21 क्विंटल धान खरीद कर डर जारी करे ना हम सरकार 20 क्विटल कर व 31 दाम का नहीं लिख कारण आप किसान देना नहीं चाहता और धोखा कर काम कर कांग्रेस पार्टी किसान के

संग खड़े हुए वाद बारबार याद दिला और किसान मन के खाता में पैसा डा मजबूर करो ठीक है एक लास्ट कमेंट नवीन जी देखो हमार बड़े भैया कांग्रेस के प्रवक्ता धनंजय जी अपन सबदम की टल न खरी भाजपा दूसरा तरफ जाना लेकिन दोनों श [प्रशंसा] विरोध हम धोखा बाज भाजपा सरकार नहीं चला

माद मोद 3100 घोषणा भी कर हम तो ब से हाथ जोड़ के मांगा था किसान 3 यही उम्मीद है जल्द ज है ठीक है ठीक है चाहे य भाजपा की उपलब्धि है चाहे कांग्रेस की उपलब्धि है आरोप प्रत्यारोप की भी सुघर बात यह है कि एक

नवा कीर्तिमान आज रचे गए है 110 लाख टन ले ज्यादा के खरीदी अपन आप एक इतिहास अपन आप एक रिकॉर्ड है फर प्रदेश के किसन मंडला मोर प्रणाम है आप बधाई है आप मलाई कर संगे आप दोनों पहुना मन के भी [संगीत] जोहार जय जोहार आपन देखा था बाबा आईबीसी

24 पंचवती मा आप मन के स्वागत है मैं हूं आप मन के संग रचना नितेश छत्तीसगढ़ के राजनीति मा किसान हमेशा ही केंद्र में र थे आज तो प्रदेश एक नवा इतिहास रचे केंद्र है किसान फिर का है रिकॉर्ड काबर होते सियासत कर आज की पंचायती एकरे [संगीत]

पर छत्तीसगढ़ में धान खरीदी के आकड़ा 110 लाख टन ला आज पार कर चुके हैं धान खरीदी ऊपर अब देख जाते तो सियासत त होते फिर सियासत के बाद का ब उठ का की भाजपा बता यर घोषणा पत्र के वजह ह दूसरा धार कांग्रेस बताते की पा साल के कार्यकाल में जिन किसान

ने य बंपर खरीदी हु है अब देखना ही कि श्रे के राजनीति कहां तक जाते पर आज पंती ज चुके दोनों ही आप इंट्रोड्यूस कर हम समा बीजेपी के नेता नवीन मारकंडे जी जुड़े दूस स धनंजय सिंह ठाकुर जी जुड़े हन के जोहार है पहली रिपोर्ट देख बा चर्चा की शुरुआत कर [संगीत]

नवंबर ले शुरू हुए धान खरीदी के आंकड़ा 111 लाख टन तक पहुंच गए छत्तीसगढ़ के इतिहास में खरीफ सीजन में धान के अत का खरीदी कभी नहीं हुए यह आंकड़ा अभी औ बाढ़ ही काबर के धान खरीदी 31 जनवरी तक हुई है राज्य सरकार 00 प्रति क्विंटल के दर से

धान की खरीदी करत है धान के मूल्य घलो अपन आप मा एक रिकॉर्ड हवे अका कीमत में धान के सरकारी खरीदी अबले पहले कबू नहीं हुए है एक और रिकर्ड बनाते सरकार 21 क्विंटल प्रति एकड़ के दर धान खरीदे के घोषणा करें प्रति एकड़ य मात्रा लोक अब तक के

सर्वोच्च है ऐसे में कहे जा सकते हैं र फायदा प्रदेश की 24 लाख से ज्यादा किसान मला मिली फिर कीर्ति मला लेकर श्रे के राजनीतिक घलो शुरू हो चुके मौजूदा सरकार भाजपा के देख रे सेथ सरकार के मंत्री दावा कर थे कि किसान हिताशी सरकार के शति यह

रिकॉर्ड बने हां धान की खरीदी हो रही है और हमको लगता है कि दो दिन पहले 100 लाख मेट्रिक टन से ऊपर धान खरीदी हो चुकी थी अभी दो दिन बाद उससे ज्यादा हो गया होगा इस तरह से करने वाले प्रश्न पूछेंगे और आप यह कहेंगे कि भाजपा की वो

सरकार जिसने एक महीने में इतने काम किए मैं सोचता हूं कि देश भर के समूचे राज्यों में कोई राज्य ऐसा नहीं होगा जिसने इतना काम किया हो ती विपक्ष में बैठे कांग्रेस के नेता यह उपलब्धि के श्रे पहले की भूप बल सरकार देवा कांग्रेस के राज्यसभा सांसद

रंजीत रंजन के कहना है कि भाजपा सरकार ला आए अब कुछ दिन हुए ऐसे में श्रे कैसे ले सकते सबने ज्यादा कीमत दे के काम भूपेश बघेल की सरकार करे ति उपलब्धि घलो कांग्रेस सरकार के देने देखिए निश्चित तौर से कहूंगी कि 5 साल से हमारी सरकार थी और

जिस तरह पूरे देश में सबसे ज्यादा एमएसपी छत्तीसगढ़ सरकार दे रही थी और कांग्रेस की सरकार दे रही थी पूरा देश जानता था आपको चंद महीने हुए हैं आप अगर क्रेडिट ले तो पूरा देश और यहां के जो किसान है वह जान रहे हैं प्रदेश में धान खरीदी की

आंकड़ा अब तक के सर्वोच्च कीर्तिमान लोक बना काबर के 31 जनवरी तक धान की खरीदी हु है प्रदेश में 40 लाख हेक्टर ज्यादा जमीन मा धान के उपज हुए ऐसे में अनुमान है 130 लाख टन ज्यादा धान की खरीदी हो जाएग फिर देखना होही कि की राजनीति कहां जाकर रुकी

राजेश राज आईबीसी 24 रायपुर तो सबले पहली तो प्रदेश के किसन मला बधाई की एक नवा कीर्तिमान रच दे गए है लेकिन अब श्रेय के राजनीति शुरू हो गए है रिपोर्ट भी नवीन जी धनं जीी आपन दोनों ही जन देखे हवा और ये रिपोर्ट में साफ तौर

में देखे जाते कि दोनों ही पार्टी अपन अपन सरकार के ला उपलब्धि बताते पहले आप दोनों जन ले एक एक ओपनिंग कमेंट में ले लेता हूं पहले नवीन जी आप देखो निश्चित रूप से भारतीय जनता पार्टी के जो सरकार हैकर जो नीति है वो

पहली से भी आज के और पिछले पा साल के भी बात हमर जो कहीं ना कहीं जो 15 साल सरकार भी चलाए हैं पहली तो ओमा भी हमर किसान केंद्रित नीति रही वही नीति है आज तक चलता तो कोई फेर बदल नहीं होए और निश्चित रूप

से जो योजना बने हैं वमा निरंतर बढ़ोतरी हो जाते और दूसरा तरफ तो ये समय बहुत ज्यादा किसान उत्साहित धान बेचे के लिए एकर सति प्रोत्साहित हुआ थे कि कहीं ना कहीं 920 के जो एकदम से होकर जो एमएसपी और एकर अंतर के जो राशि व 920 जब बढ़ी से तो एक

तरह से किसान मनकर सही मूल्य जो हमन मोदी सरकार जो शुरू में कहा थ कि हम लागत मूल्य से डबल देबो करके तो आप देखो कि हमार 2014 के रिकॉर्ड ला वो समय से लेक आज तक के तो निश्चित रूप से आज तक हम 2023 तक के

जो डबल कर क रहे जो लागत मूल्य के डबल व कहीं ना कहीं पूरा हुआ थे र कारण से जो किसान मन एक उत्साह रूप से खेती लापन ज्यादा मेहनत करके ज खेती बचक ही से भागत ला ज्यादा बेहतर ढंग से अच्छा ढंग से खती

करके अब लाभ लेके को पर्जन कर के कोशिश कर ठीक धनंजय जी देखो अभी जो दान रीदी प्रदेश में जला थे य धान खरीदी में धान बसाए पर एक नवंबर के धान खरीदी घोषणा पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार के दौरान हो गई और 20 क्विंटल धान प्रति एकड़ किसान से खरीदी

जाही और प्रदेश के 257 लाख किसान जो पंजीकृत होरी से बारदाना की व्यवस्था हो चाहे धान खरीद के बाद जो तत्काल किसान के भुगतान करना है खर भी पैसा के व्यवस्था कांग्रेस सरकार कर से लगभग 40000 करोड़ रुपया हमन धान खरीद सरकार कर्जा ले से तो

अभी जो धान खरीद के लक्ष आगे पहुचा वर्तमान के फूटी कड़ी के कोई योगदान नहीं है एक कारण बताऊ आप मैं कि अगर हमन जैसे सरकार में रहे लक्ष कि र एक 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी हुई 27 लाख किसान से और 20 क्विंटल के हिसाब से निकाले र अब 21

क्विंटल हम बात कर तो निश्चित तौर पर क्वांटिटी बढ़ करी लेकिन ज हिसाब से म 31 जनवरी के धान ख बंद कर जाते हम तो मांग करेंगे दो महीने बढ़ाया जाए और 21 क्विंटल सब किसान से ले जाए और 3100 दे जाए तो लागते कि कोई योगदान नहीं है लेकिन प्रदेश

के किसान के सा धोखा हो ज कांग्रेस सरकार में 27 28 मिल किसान वो तो मिल नहीं किसान धान बेचे मजबूर हो कई जगह बारदाना रोके शिकायत आ ताकि न धान उत्पन्न कर सके तो लगते की भ जनता पार्टी की आने वाले समय ज धान खरीदी तो आज हमन जो लक्ष टारगेट करे

आधा धान खरीद पाही और किसान धोखा काम हुआ एक पूरा धान खरी पूर्वर्ती कांग्रेस सरकार जा नवीन जी में पा साल के कार्यकाल में जिन कांग्रेस काम कर किसान भ ये ओकर नतीजा है या फिर आपन के वचन पत्र में जिनत आपन 300 के बात करे हो 21 क्विंटल प्रति एकड़

के बात करे हो य उका नतीजा है देखो बात ऐसे है कि 5 साल में करे का है एमएसपी राशि केंद्र सरकार के देवाथे दूसरा तरफ है कि जो अंतर के राशि देना है ते झुला झुला के चार बार में देवा अभी ए मनहा ला जो

अंतिम किस तक राशि ले प्रावधान नहीं कर आप लोग बहुत अच्छा याद होई कि मैं बतावा जब 2018 में हमार सरकार जब गी से व समय कांग्रेस के सरकार बनी तो हम अंतर के राशि जो बोनस के जो राशि व 00 रला हमना का कर

रहे उ जोड़ के दे रहे है ना भाई तो कहीं ना कहीं हम ये नहीं सोचे रहे कि हमार सरकार रही की जाही लेकिन हम किसान के लिए सोचे 00 जोड़ के दे आधार में खरीदी सीधा भुगतान हो तमस साथ साथ से लेकिन आज के डेट

में ये जो 5 साल कांग्रेस चलाई से तो सीधा भुगतान नहीं करी ला रोक के रखी से पाट पाट में द से और दूसरा तरफ अभी ए मन कांग्रेस के जो सरकार रही से तो एमएसपी के जो आ एमएसपी के साथ में जो अंतर के राशि अंतिम

चार चौथा किस्त जो बचे जोड़ के का नहीं लिए बजट प्रावधान का नहीं कर और दो साल के बोनस भी मन दे करके झूठ बोल के वोट ले रही लेकिन हमन हमर सरकार बा की दो साल के पुराना जो बचे हुए बोनस ल दे और एक जो बचे

हुए जो अंतिम किस्त तो दे बावजूद हमन कहीं ना कहीं हमन लगभग 20 से ऊपर के जो खरीदी जो अंतर के राशि है उ दे बता कर तो ऐसे है कि हम तो भाई लगातार अगर देवा था तो आप अगर हिसाब किताब कर देख ना तो यह

88000 प्रति एकड़ के दर से अभी जाही कैसे के हम दो साल के बोनस भी दे फिर अंतर के राशि भी बढ़ देव और दूसरे तरफ है किय जो एमएसपी की राशि भी जाते अब तीसरा जो जो किसान न्याय योजना केमन के जो अंतिम कि स्ल भी देवो तो ये प्रति एकड़ 00

से भी ऊपर के जो राशि भ साल भारतीय जनता पार्टी की सरकार कर चिंता कर देखो ऐसे है रचना जी बोलते सत कपाला ल ल अरे कहा तो सरकार बने के बाद मात्र 00 करोड़ बरक बजट ले कौन जग धान खरीद पै राश लेखा बता तो 00 करोड़ रुपया य भूपेश बलज

सरकारी से किसान मला पेमेंट कर कर्जा ले से बारदाना की व्यवस्था करी से 1 नवंबर से खरीदी की बात करी 20 क्विंटल धान के आर्डर द वो हिसाब से 135 लाख मिटिक टन धान के खरीदी होना है अब एक क्विंटल में साला बढ़ा दे तो ये खरीदी जाना चाहिए ना 140

लाख मेट्रिक टन से ऊपर जाना चाहिए 213 किसान ला देतो और न्याय योजना के जो चौथा किस्त के जो पैसा रखा भूपेश सरकार व्यवस्था के चौथा किस्त देना है तीन ठ दे चुक तेने पैसा मिला के बोनस में दे दो दो स